पटना यूनिवर्सिटी चुनाव: बीजेपी-जेडीयू के बीच सिर-फुटौव्वल, एबीवीपी छात्रों का प्रशांत किशोर की गाड़ी पर पथराव

पटना यूनिवर्सिटी में कुलपति के आवास के बाहर जेडीयू उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर की गाड़ी पर छात्रों ने पथराव किया है। इस पथराव में वे बाल-बाल बच गए लेकिन उनकी गाड़ी का शीशा चकनाचूर हो गया। इस हमले का आरोप एबीवीपी के छात्रों पर लगा है।

फोटो: सोशल मीडिया 
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

पटना यूनिवर्सिटी में छात्र संघ का चुनाव 5 दिसंबर को होना है। लेकिन इससे पहले बीजेपी और जेडीयू के बीच सिर-फुटव्वौल शुरू हो गया है। दरअसल, जेडीयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और सीएम नीतीश कुमार के करीबी प्रशांत किशोर के पटना यूनिवर्सिटी जाने को लेकर विवाद काफी बढ़ गया है। खबरों के मुताबिक, प्रशांत किशोर बिहार राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकार के सदस्य डॉ उदयकांत मिश्रा के साथ विश्वविद्यालय कैंपस में कुलपति से मिलने के लिए पहुंचे थे। एबीवीपी छात्रों को ये बात नागवार गुजरी और छात्रों की भीड़ ने वीसी आवास को घेर लिया।

खबरों के मुताबिक, प्रशांत किशोर जब कुलपति के दफ्तर से बाहर निकले थे तभी एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने उनकी गाड़ी पर पथराव कर दिया। एबीवीपी का आरोप है कि प्रशांत किशोर छात्रसंघ चुनाव को प्रभावित करने की कोशिश कर रहे हैं।

इस हमले के बाद प्रशांत किशोर ने ट्वीट करके एबीवीपी पर निशाना साधा है। उन्होंने ट्वीट किया है, “एबीवीपी गुंडे और असामाजिक तत्वों से कुछ अच्छा करने की जरूरत है, जो कि आजकल बिहार में आपका चेहरा बन गए हैं। पटना यूनिवर्सिटी के छात्रसंघ चुनाव में संभावित हार की घबराहट मेरी गाड़ी पर पत्थर मारने से कम नहीं होगी।”

खबरों के मुताबिक, यूनिवर्सिटी कैंपस में प्रशांत किशोर को लेकर जहां ड्रामा चल रहा था और एबीवीपी के छात्र उनके उपर हमला कर रहे थे, वहीं दूसरी ओर बीजेपी विधायकों का एक प्रतिनिधिमंडल राज्यपाल लालजी टंडन से मुलाकात कर चुनाव में धांधली की शिकायत कर रहा था। वहीं राज्यपाल ने शिकायत पर संज्ञान लेते हुए कुलपति को तलब भी किया है।

आचार संहिता लागू होने के बावजूद पटना विश्वविद्यालय के अंदर प्रशांत किशोर के जाने और एबीवीपी छात्रों के द्वारा उनके उपर हमले को लेकर आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा, “नीतीश जी, छात्र संघ चुनाव में आप इतने निम्नस्तर तक जाकर हस्तक्षेप कर रहे है कि आपके सहयोगी दल बीजेपी के 8 विधायक, मंत्री दो दिन से आपके और सरकार के खिलाफ प्रेस रिलीज जारी कर थू-थू कर रहे है। आपने अपने मित्र और महंगे निजी नौकरों तक को वीसी के पास भेजकर छात्र चुनाव में घिन्न मचा दिया है।”

बता दें कि पटना विश्वविद्यालय में छात्रसंघ का चुनाव प्रचार 3 दिसंबर को ही खत्म हो गया था और चुनावों की वोटिंग 5 दिसंबर को होनी है। चुनाव प्रचार खत्म होने के साथ ही विश्व विध्यालय कैंपस में आचार संहिता लागू कर दी गई है। जिसके चलते नियमों के मुताबिक किसी भी राजनीतिक दल का कोई भी नेता विश्वविध्यालय परिसर में नहीं जा सकता है।

Published: 4 Dec 2018, 12:21 PM
लोकप्रिय