सुनील गावस्कर ने सरकार से जमीन तो लिया, पर 30 साल में भी नहीं बनी क्रिकेट अकादमी, मंत्री ने जारी की चेतावनी

जमीन 'सुनील गावस्कर क्रिकेट फाउंडेशन ट्रस्ट' को निर्धारित अवधि में क्रिकेट/खेल अकादमी के लिए दी गई थी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। आवास मंत्री जितेंद्र आव्हाड ने कहा कि उन्होंने आवंटन रद्द करने का लगभग फैसला कर लिया था, लेकिन गावस्कर का नाम जुड़ा होने के कारण वह रुक गए।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

महाराष्ट्र सरकार ने क्रिकेट के दिग्गज सुनील गावस्कर को क्रिकेट अकादमी विकसित करने के लिए तीन दशक पहले आवंटित जमीन का उपयोग नहीं करने के लिए 'चेतावनी' जारी की है। आवास मंत्री डॉ जितेंद्र आव्हाड ने बुधवार की देर रात बांद्रा पूर्व क्षेत्र में खाली 2000 वर्ग मीटर के प्लॉट को लेकर गावस्कर को फटकार लगाई, जिसे 1986 में क्रिकेट के साथ खेल प्रशिक्षण अकादमी शुरू करने के लिए आवंटित किया गया था। इस बीच, गावस्कर, जो इस समय लंदन में हैं, उन्होंने अभी तक मंत्री के खाली प्लॉट से संबंधित बयान पर प्रतिक्रिया नहीं दी है

अधिकारियों ने कहा कि मुख्य भूमि 'सुनील गावस्कर क्रिकेट फाउंडेशन ट्रस्ट' को निर्धारित अवधि के भीतर क्रिकेट/खेल अकादमी के निर्माण के उद्देश्य से दी गई थी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ है। बुधवार को डॉ जितेंद्र आव्हाड ने कहा कि उन्होंने आवंटन को रद्द करने का लगभग फैसला कर लिया था, लेकिन गावस्कर का नाम प्लॉट से जुड़ा होने के कारण उन्होंने परहेज किया।

आवास मंत्री डॉ जितेंद्र आव्हाड ने सख्ती से कहा, "अगर यह सुनील गावस्कर नहीं होते, तो आवास मंत्री के रूप में मैंने आवंटन रद्द कर दिया होता। अब कम से कम उन्हें भूखंड से सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना चाहिए।" अपने रुख को नरम करते हुए आव्हाड ने कहा, "मैं वह हूं जो गावस्कर में भगवान देखता था। वह दिन नहीं भूल सकता जब वह फिलिप डेफ्रीटास द्वारा क्लीन बोल्ड किये गए थे और मैं रोते हुए स्टेडियम से निकला था।"

शिवसेना नेता और मुंबई बिल्डिंग रिपेयर एंड रिकंस्ट्रक्शन बोर्ड के अध्यक्ष विनोद घोसालकर ने कहा कि मानदंडों के अनुसार, विशिष्ट उद्देश्यों के लिए आवंटित ऐसे सभी प्लॉट तीन साल के भीतर बनाए जाने चाहिए और आवंटी को भूमि पर सभी प्रासंगिक करों का भुगतान करना होगा। घोसालकर ने बताया कि विभिन्न मामलों में देरी हो सकती है, इसलिए आवेदक समय अवधि के विस्तार की मांग कर सकते हैं और इसे परियोजना के आधार पर दिया जा सकता है, 30 साल एक लंबी अवधि है।

आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि सार्वजनिक कारणों के लिए फिल्मी सितारों, खिलाड़ियों, गैर सरकारी संगठनों, धर्मार्थ संगठनों आदि को ऐसे कई प्लॉट दिए गए हैं और कई बार उन्हें इच्छित उद्देश्यों के लिए बनाने में देरी होती है। कुछ साल पहले, बीजेपी की सांसद हेमा मालिनी ने ओशिवारा में 2000 वर्ग मीटर का प्लॉट लौटाया था, जबकि आईपीएल के पूर्व अध्यक्ष और कांग्रेस के पूर्व सांसद राजीव शुक्ला ने भी अंधेरी में एक प्लॉट लौटाया था, दोनों ही उन्हें बनाने में असमर्थ थे।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 16 Sep 2021, 5:10 PM