आर्थिक संकट से घिरे तालिबान की अमेरिकी कांग्रेस से मांग- जब्त अफगान संपत्ति को मुक्त करें

विदेश मंत्री ने पत्र में कहा है कि अगर अफगान संपत्तियां जब्त रहती हैं तो अफगानिस्तान में समस्याएं बढ़ जाएंगी, क्योंकि सर्दी का मौसम तेजी से आ रहा है। पत्र में अमेरिकी कांग्रेस और सरकार से अपने फैसले की समीक्षा करने और अफगान संपत्ति जारी करने का आग्रह है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

अफगानिस्तान के विदेश मंत्री आमिर खान मुत्ताकी ने अमेरिकी कांग्रेस को लिखे एक ताजा पत्र में अफगानिस्तान की केंद्रीय बैंक की अमेरिकी सरकार द्वारा जब्त की गई संपत्तियों को मुक्त करने की मांग की है। मुत्ताकी ने कहा कि दोहा समझौते पर हस्ताक्षर के बाद इस्लामिक अमीरात और अमेरिका अब न तो सीधे संघर्ष में हैं और न ही सैन्य विरोध में।

पत्र में लिखा गया है, "यह काफी हैरान करने वाली बात है कि नई सरकार की घोषणा के साथ संयुक्त राज्य अमेरिका के प्रशासन ने हमारे सेंट्रल बैंक की संपत्ति पर प्रतिबंध लगा दिए। यह हमारी अपेक्षाओं के साथ-साथ दोहा समझौते के खिलाफ है। हमारे लोगों की मूलभूत चुनौती वित्तीय सुरक्षा है और इस चिंता की जड़ें अमेरिकी सरकार द्वारा हमारे लोगों की संपत्ति को फ्रीज किए जाने की ओर जाती हैं।"

पत्र में कहा गया है कि इस्लामिक अमीरात अंतर्राष्ट्रीय समुदाय और अमेरिका की चिंताओं को समझता है और कहता है कि अफगानिस्तान की संपत्ति को जब्त करने से किसी समस्या का समाधान नहीं हो सकता। रिपोर्ट के मुताबिक, मुत्ताकी ने लिखा, "हमारा मानना है कि अफगान संपत्ति को फ्रीज करने से समस्या का समाधान नहीं हो सकता और न ही यह अमेरिकी लोगों की मांग है, इसलिए आपकी सरकार को हमारी राजधानी को अनफ्रीज करना चाहिए।"


विदेश मंत्रालय ने पत्र में कहा है कि अगर अफगान संपत्तियां जब्त रहती हैं तो अफगानिस्तान में समस्याएं बढ़ जाएंगी, क्योंकि सर्दी का मौसम तेजी से आ रहा है। पत्र में अमेरिकी कांग्रेस और अमेरिकी सरकार से अपने फैसले की समीक्षा करने और अफगान संपत्ति जारी करने का आग्रह किया। पत्र में कहा गया है, "हम चिंतित हैं कि अगर मौजूदा स्थिति बनी रहती है, तो अफगान सरकार और लोगों को समस्याओं का सामना करना पड़ेगा और यह क्षेत्र और दुनिया में बड़े पैमाने पर प्रवास का कारण बन जाएगा। नतीजतन, दुनिया के लिए और मानवीय और आर्थिक मुद्दे पैदा होंगे।"

मुत्ताकी ने कहा है कि अफगान संपत्तियों को जब्त किए जाने और अमेरिकी प्रतिबंध से अफगानिस्तान के स्वास्थ्य, शिक्षा और अन्य सिविल सेवा प्रणालियों को नुकसान पहुंच रहा है।
उन्होंने कहा कि सूखे, पिछले युद्धों और कोविड-19 के प्रभाव को देखते हुए प्रतिबंधों और धन की रोक से अफगानिस्तान में वित्तीय और आर्थिक समस्याएं बढ़ सकती हैं।

पत्र में आगे कहा गया है, "अंत में, मैं संयुक्त राज्य अमेरिका की सरकार से अफगानिस्तान में सामने आ रहे मानवीय और आर्थिक संकट को दूर करने के लिए जिम्मेदार कदम उठाने का अनुरोध करता हूं, ताकि भविष्य के संबंधों के लिए दरवाजे खुल सकें, अफगानिस्तान के सेंट्रल बैंक की संपत्ति स्थिर हो और हमारे बैंकों से प्रतिबंध हटा दिया जाए।" पत्र में यह भी कहा गया है कि अफगानिस्तान अमेरिका समेत सभी देशों के साथ अच्छे संबंध चाहता है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia