हामिद, गीता, जैनब समेत कई लोगों की सुषमा ने की थी मदद, निधन की खबर सुनकर सभी आंखें नम, जानें किसने क्या कहा

बतौर विदेश मंत्री रहते हुए सुषमा स्वराज ने हमेशा विदेशों में फंसे भारतीय लोगों की मदद की है। हर बार सुषमा स्वराज ने लोगों को मुश्किलों से निकाला है। आज वे सभी लोग भी सुषमा स्वराज के निधन की खबर सुनकर गम में है।

फोटो: विपिन
फोटो: विपिन
user

नवजीवन डेस्क

पूर्व विदेश मंत्री और बीजेपी की वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज के निधन के बाद देश में शोक की लहर है। एक ओर सुषमा स्वराज को देश और दुनिया के बड़े नेता श्रद्धांजलि दे रहे हैं तो दूसरी ओर ऐसे लोग के आंसू रुकने के नाम नहीं ले रहे हैं, जिनकी बतौर विदेश मंत्री रहते सुषमा स्वराज ने मदद की।

पाकिस्तान में एक दशक तक फंसी रही गीता ने भी सुषमा स्वराज को श्रद्धांजलि दी है। गीता बोल नहीं सकती है फिर भी इशारों के जरिए अपने भाव को दुनिया के सामने रख रही है। 25 सेकेंड के वीडियो में गीता एक संदेश देने की कोशिश कर रही है।

बता दें कि गीता 20 साल पहले गलती से पाकिस्तान की सीमा में दाखिल हो गई थी। लेकिन सुषमा स्वराज के कई प्रयासों के बाद 2015 में गीता भारत लौटी। जिसके बाद वह मध्य प्रदेश की सरकारी संस्था ‘मूक-बधिर संगठन’ के आवासीय परिसर में रह रही हैं।

हैदराबाद की जैनब बी ने भी सुषमा स्वराज की निधन पर काफी दुखी हैं और उनका रो-रोकर बुरा हाल हो रहा हैं। उन्होंने कहा, “मैंने रात में ये खबर सुनी तो परेशान हो गई। सुषमा मैडम ने मेरी बहुत मदद की। मैं रात भर सो नहीं सकी। उनका जन्नत-ए-मकाम बने।” बता दें कि विदेश मंत्री रहते हुए सुषमा स्‍वराज ने जैनब बी को सऊदी अरब से सुरक्षित बाहर निकाला गया था।

सुषमा स्वराज के निधन पर सरबजीत सिंह की बहन दलबीर कौर ने कहा, “उन्हें विश्वास नहीं हो रहा है वो इतनी जल्दी हमें छोड़ कर चली गईं। उनका जाना देश के लिए बहुत बड़ी क्षति है। उन्होंने हमेशा लोगों की मदद कीं। चाहे हामिद अंसारी हो, सरबजीत हो, गीता हो या कुलभूषण जाधव, उन्होंने सबकी मदद की। उनकी आत्मा को शांति मिले।”

सुषमा स्वराज ने पाकिस्तान की जेल में 6 साल तक बंद रहे मुंबई के एक इंजीनियर हामिद अंसारी की भारत वापसी में मदद की थी। अब सुषमा स्वराज की निधन की खबर सुनने के बाद हामिद दुखी है। उन्होंने कहा, “मेरे दिल में उनके लिए गहरा सम्‍मान है। वे हमेशा मेरे दिल में जीवित रहेंगी। वह मेरी मां के समान थी। पाकिस्‍तान से लौटने के बाद उन्‍होंने ही मेरा मार्गदर्शन किया। उनका न रहना मेरे लिए बड़ा नुकसान है।” बता दें कि 6 साल जेल में रहने के बाद भारत लौटे हामिद ने सबसे पहले सुषमा स्वराज से मुलाकात की थी।

गौरतलब है कि बतौर विदेश मंत्री रहते हुए सुषमा स्वराज ने हमेशा विदेशों में फंसे भारतीय लोगों की मदद की है। हर बार सुषमा स्वराज ने लोगों को मुश्किलों से निकाला है, लेकिन आज वह इस दुनिया में नहीं है। सुषमा स्वराज की मंगलवार रात दिल्ली के एम्स अस्पताल में निधन हो गया। वे 67 वर्ष की थीं। उन्हें दिल का दौरा पड़ा था, जिसके बाद उन्हें एम्स लाया गया था।

Published: 7 Aug 2019, 2:32 PM
लोकप्रिय