यूपी चुनाव: स्वामी प्रसाद मौर्य के काफिले पर हमला, बीजेपी सांसद बेटी का दावा-बीजेपी कार्यकर्ताओं ने उन्हें भी घेरा

बीजेपी छोड़कर सपा में आए स्वामी प्रसाद मौर्य के काफिले पर मंगलवार को हमला हुआ। इस हमले में कई गाड़ियों को नुकसान हुआ है। अखिलेश यादव ने कहा है कि इस हमले का जवाब बाकी के दो चरणों में दिया जाएगा। वहीं मौर्य की बेटी और बीजेपी सांसद संघमित्रा मौर्य ने भी कहा है कि मतदान में इस हमले का जवाब दिया जाएगा।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के बीच कई जगह से हंगामों की खबर भी आम हो गई हैं। ऐसी ही घटना में मंगलवार को समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार और बीजेपी छोड़कर सपा में आए स्वामी प्रसाद मौर्य के काफिले पर कुशीनगर जिले के फाजिलनगर इलाके में हमला हुआ। बताया जाता है कि इस हमले में कई गाड़ियों को नुकसान पहुंचा है, लेकिन मौर्य सुरक्षित हैं।

जानकारी के मुताबिक जिस समय मौर्य का काफिला फाजिलनगर से निकल रहा था उसी बीच बीजेपी और सपा कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हो गई। इसके बाद मारपीट और पत्थरबाजी हुई। आरोप है कि इसमें कई सपा कार्यकर्ता जख्मी हुए और कई गाड़ियों के शीशे टूट गए। हालांकि इस दौरान स्वामी प्रसाद मौर्य की गाड़ी आगे निकल गई थी और उन्हें कोई चोट नहीं आई है।

फाजिलनगर सीट पर मौर्य का मुकाबला बीजेपी के सुरेंद्र कुशवाहा से हैं। इस घटना के बाद सपा कार्यकर्ताओं ने बाजार में जाम भी लगा दिया था।

इस घटना पर समाजवादी पार्टीके अध्यक्ष अखिलेश यादव ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि, "स्वामी प्रसाद मौर्य जी पर हुआ हमला हारते हुए लोगों की अति निंदनीय हरकत है। ये हमला सपा-गठबंधन के हर दल के कार्यकर्ता और उनके नेताओं के ऊपर किये गए हमले के समान है। सब मिलकर इसका जवाब बाकी दो चरणों में बीजेपी को जीरो करके देंगे। इस सरकार से किसी कार्रवाई की अपेक्षा ही बेमानी है।"


इस घटना पर फाजिलनगर से बीजेपी उम्मीदवार सुरेंद्र कुशवाहा ने कहा है कि स्वामी प्रसाद मौर्य अपनी हार से घबरा गए हैं और उन्होंने ही बीजेपी कार्यकर्ताओं पर हमला करवाया है। उन्होंने दावा किया कि हमले में बीजेपी कार्यकर्ताओं की गाड़ियों को नुकसान पहुंचा है।

मौर्य की बेटी और बीजेपी सांसद ने कहा- बीजेपी को जवाब मिलेगा

इस बीच हमले को लेकर बीजेपी सासंद और स्वामी प्रसाद मौर्य की बेटी संघमित्रा मौर्य ने भी तीखी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि है भले ही वह बीजेपी की कार्यकर्ता हैं लेकिन अपने पिता पर हमला बरदाश्त नहीं कर सकती। उन्होंने कहा, “मैं बीजेपी की सांसद, कार्यकर्ता जरूर हूं, और रहूंगी भी, लेकिन बेटी होने के नाते अपने पिता पर हुए हमले की मैं निंदा करती हूं। 3 मार्च को जब मतदान होगा तो जनता इसका कड़ा जवाब देगी।”

संघमित्रा मौर्य ने कहा कि यह हमला पिताजी पर नहीं बल्कि लोकतंत्र पर है। मैं निर्वाचन आयोग से मामले का संज्ञान लेने की मांग करती हूं।” उन्होंने दावा किया कि पिता पर हमले की खबर सुनकर जब वह आ रही थीं तो बीजेपी कार्यकर्ताओं ने उन्हें भी घेर लिया था और पुलिस ने उन्हें बचाया।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia