अमूल गर्ल को घर-घर पहचान दिलाने वाले सिल्वेस्टर का निधन, मुंबई में ली आखिरी सांस, अमूल इंडिया ने जताया दुख

सिल्वेस्टर साल 1966 में अमूल गर्ल वाले विज्ञापन का आइडिया लेकर आए थे। इसके बाद सफेद और लाल रंग के डॉटेड फ्रॉक में नजर आने वाली अटरली-बटरली गर्ल ने ऐसा कमाल किया कि अमूल ब्रांड को देश और दुनिया में नई पहचान मिली।

अमूल गर्ल को घर-घर पहचान दिलाने वाले सिल्वेस्टर अब नहीं रहे। फोटो: सोशल मीडिया
अमूल गर्ल को घर-घर पहचान दिलाने वाले सिल्वेस्टर अब नहीं रहे। फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

अमूल गर्ल को घर घर पहचान दिलाने वाले सिल्वेस्टर दाकुन्हा का निधन हो गया है। उन्होंने मुंबई में आखिरी सांस ली। अमूल इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्टर ने ट्वीट कर इस बारे में जानकारी दी है।

उन्होंने ट्वीट कर कहा कि दाकुन्हा कम्युनिकेशंस के चेयरमैन सिल्वेस्टर दाकुन्हा के कल रात मुंबई में निधन के बारे में सूचित करते हुए बहुत दुख हो रहा है। भारतीय विज्ञापन उद्योग के एक दिग्गज जो 1960 के दशक से अमूल से जुड़े थे। अमूल परिवार इस शोक में शामिल है।

सिल्वेस्टर साल 1966 में अमूल गर्ल वाले विज्ञापन का आइडिया लेकर आए थे। इसके बाद सफेद और लाल रंग के डॉटेड फ्रॉक में नजर आने वाली अटरली-बटरली गर्ल ने ऐसा कमाल किया कि अमूल ब्रांड को देश और दुनिया में नई पहचान मिली।


अमूल के जनरल मार्केटिंग मैनेजर पवन सिंह ने कहा कि सिल्वेस्टर के निधन से दुखी है। उन्होंने कहा कि अमूल गर्ल दुनिया में सबसे लंबे समय तक लगातार चलने वाले विज्ञापन में से एक है। विज्ञापन से कंपनी ने नई ऊंचाइयों को छुआ।

 सिल्वेस्टर के निधन के बाद उनके परिवार में उनकी पत्नी निशा और बेटे राहुल दाकुन्हा हैं। सिल्वेस्टर ने अपने भाई के साथ मिलकर 1969 में दाकुन्हा कम्युनिकेशंस

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;