T20 World Cup: टीम इंडिया की दो शर्मनाक हार पर फैंस का सवाल, पूछा- नॉन स्टॉप क्रिकेट, बायो बबल कहीं वजह तो नहीं

कुछ लोगों का मानना है कि टी20 विश्व कप से पहले नॉन-स्टॉप क्रिकेट और बायो बबल से थकान के कारण टी20 वर्ल्ड कप में भारत का खराब प्रदर्शन में रहा।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

भारत के कप्तान विराट कोहली ने पिछले महीने सोशल मीडिया पर एक फोटो साझा की थी, जिसमें वह जीभ निकाले, रस्सी से बंधे हुए दिखाई दिए थे। उन्होंने इस फोटो पर कैप्शन दिया था कि यह ऐसा एहसास है, मानो बायो बबल में खेलने जैसा।

इस फोटो के जरिए कप्तान शायद कोई ऐसी बात बताना चाहते थे, जिसे भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) और क्रिकेट पंडितों ने उस समय नजरअंदाज कर दिया था। या शायद, वे इस पर हंसे थे। लेकिन अब टी20 वर्ल्ड कप में लगातार दो मैचों में भारत की हार के बाद एक बार फिर इस पर बहस छिड़ गई है।

कुछ लोगों का मानना है कि टी20 विश्व कप से पहले नॉन-स्टॉप क्रिकेट और बायो बबल से थकान के कारण टी20 वर्ल्ड कप में भारत का खराब प्रदर्शन में रहा।

सीमर जसप्रीत बुमराह ने भी रविवार को कहा कि बायो-बबल थकान खिलाड़ियों के दिमाग में रहती है, यहां तक कि वे कोविड-19 महामारी के बीच खेल खेलने के लिए सामान्य होने की पूरी कोशिश करते हैं।

उन्होंने आगे कहा कि खिलाड़ियों को अपने परिवारों से दूर रहने का दर्द महसूस होती है, लेकिन जब वे मैदान पर देश का प्रतिनिधित्व करने के लिए उतरते हैं तो वे इन सभी बातों को भूल जाते हैं।

दरअसल, कुछ महीने पहले बीसीसीआई के मेडिकल एडवाइजर डॉ. अशोक आहूजा ने भी इस मसले पर चिंता जाहिर की थी। उन्होंने कहा, "लंबे समय तक बायो-बबल में रहने की अपनी अलग समस्याएं हैं। अगर टीम बायो बबल से होने वाली थकान को दूर नहीं करती है, तो टी20 वर्ल्ड कप में उनके प्रदर्शन पर असर पड़ सकता है।"

ऐसे में सवाल यह उठता है कि जब बोर्ड के खिलाड़ियों और अधिकारियों को नतीजों के बारे में पता था तो इस समस्या को कम करने के लिए कुछ क्यों नहीं किया गया? आईपीएल 2021 के दूसरे फेस के दौरान, कई विदेशी खिलाड़ियों ने बायो बबल से होने वाली थकान के मुद्दों का हवाला देते हुए लीग में खेलने पर अपनी आपत्ति जाहिर की थी।

लेकिन कोई भी भारतीय खिलाड़ी आधिकारिक तौर पर इस मुद्दे को उठाने के लिए आगे नहीं आया, इसलिए अब ऐसा लगता है कि यूएई में आईसीसी टी20 वर्ल्ड कप में भारत को नुकसान उठाना पड़ा। इंग्लैंड दौरे से लौटने के बाद भारतीय क्रिकेटर आईपीएल के लिए बायो बबल में शामिल हो गए और फिर इसके बाद विश्व कप के लिए दूसरे बबल में शिफ्ट हो गए थे।

हालांकि, अब तक के शर्मनाक प्रदर्शनों के मद्देनजर, क्रिकेट पर मरने वाले लाखों भारतीय प्रशंसक बायो-बबल थकान है या नहीं, पर जवाब मांग रहे हैं।

एक नेटिजन ने लिखा, "यह बायो-बबल वाली चीज नहीं थी, यह वास्तव में टीम के आसपास बनाया गया एक नकली बबल था जो अंत में फट गया।"

दूसरे प्रशंसक ने ट्वीट किया, "बबल थकान हमारे आत्मसमर्पण के लिए हवाला दिया जा रहा है, अन्य खिलाड़ियों और अन्य टीमों के बारे में क्या? क्या उन्हें बबल में थकान का सामना नहीं करना पड़ा है, वे भी आईपीएल और अन्य क्रिकेट खेल रहे हैं जो कोविड महामारी में बायो बबल के बीच खेला जा रहा है। इससे आगे बढ़िए।"

कुछ लोगों ने विश्व कप शुरू होने से पहले विराट कोहली के टी20 कप्तानी छोड़ने की घोषणा पर भी सवाल उठाए थे। एक ने लिखा, "ऐसा लगता है कि कप्तानी छोड़ने की जल्दबाजी ने टीम के भीतर एक तरह का भ्रम पैदा कर दिया।"


एक पूर्व क्रिकेटर ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर कहा कि भारतीय खिलाड़ियों को तय करना होगा कि उनके लिए क्या ज्यादा महत्वपूर्ण है। आईपीएल या देश के लिए खेलना? वे काफी स्मार्ट हैं और वे जानते हैं कि ज्यादा क्रिकेट खेलना समस्याएं पैदा कर सकती है। बीसीसीआई लीग की खातिर प्रमुख टूर्नामेंटों की अनदेखी नहीं कर सकता।

स्पोर्ट्स में जीत या हार खेल का हिस्सा है, लेकिन बिना लड़ाई के हारना अस्वीकार्य है। भारतीय मुख्य कोच रवि शास्त्री को अगले मैच से पहले जीत के लिए अच्छी रणनीति बनानी होगी।

बल्लेबाज रोहित शर्मा, केएल राहुल, ऋषभ पंत, ईशान किशन, सूर्य कुमार यादव फिट और अनफिट हो रहे हैं। ऐसे में हार्दिक पांड्या जैसे बल्लेबाजों को जिम्मेदारी लेने की जरूरत है, ताकि गेंदबाजों के पास मैच जिताने के लिए एक अच्छा स्कोर हो।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia