तमिलनाडु सरकार ने पेश किया पहला कृषि बजट, दिल्ली में आंदोलन कर रहे किसानों को किया समर्पित

कृषि मंत्री एमआरके पनीरसेल्वम ने कहा कि बजट में कृषि स्नातकों को उद्यमी बनने के लिए प्रेरित करने, किसानों को बाजरा/दाल/तिलहन पैदा करने के लिए प्रोत्साहित करने, परती भूमि को खेती योग्य भूमि में बदलने, जैविक खेती को बढ़ावा देने पर ध्यान दिया गया है।

फोटोः @arivalayam
फोटोः @arivalayam
user

नवजीवन डेस्क

तमिलनाडु के कृषि और किसान कल्याण मंत्री एमआरके पनीरसेल्वम ने मुख्यमंत्री एम.के.स्टालिन की घोषणा के अनुसार शनिवार को कृषि के लिए राज्य का पहला बजट पेश किया। बजट पेश करते हुए उन्होंने कहा कि यह केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली में प्रदर्शन कर रहे किसानों को समर्पित है। डीएमके सरकार ने घोषणा की थी कि सरकार पहले कृषि के लिए एक अलग बजट पेश करेगी। यह पहली बार है जब कृषि क्षेत्र के लिए राज्य में अलग बजट पेश किया गया है।

कृषि और किसान कल्याण मंत्री एमआरके पनीरसेल्वम ने आगे कहा, "कृषि भूमि को अचल संपत्ति में बदलने के कारण फसली क्षेत्र में कमी, मिट्टी के पोषण में कमी, अति-शोषण के कारण जल संसाधनों में गिरावट, खेती करने के लिए युवाओं की अनिच्छा, खेती के लिए पारिश्रमिक मूल्य से वंचित, कृषि उपज, खेती की बढ़ी हुई लागत, फसल के बाद का नुकसान, आदि कई चुनौतियां हैं। किसान कृषि में इन कठिन चुनौतियों का सामना कर रहे हैं।"

पन्नीरसेल्वम के अनुसार वर्ष 2021-22 के लिए कृषि और संबद्ध क्षेत्रों के लिए कुल 34,220.65 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं। उन्होंने बताया कि कृषि स्नातकों को उद्यमी बनने के लिए प्रोत्साहित करना, किसानों को बाजरा/दाल/तिलहन पैदा करने के लिए प्रोत्साहित करना, परती भूमि को खेती योग्य भूमि में बदलना, जैविक खेती पर ध्यान केंद्रित करना, इन सभी बातों को ध्यान में रखकर तमिलनाडु का पहला कृषि बजट बनाया गया है। उन्होंने केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली में प्रदर्शन कर रहे किसानों को बजट समर्पित किया है।


बजट में कृषि मंत्री ने धान ग्रेड-ए किस्मों के 2,060 रुपये प्रति क्विंटल और सामान्य किस्मों के 2,015 रुपये प्रति क्विंटल के खरीद मूल्य की भी घोषणा की। इससे करीब छह लाख किसान लाभान्वित होंगे और सरकार पर 99.38 करोड़ रुपये का अतिरिक्त खर्च आएगा। पन्नीरसेल्वम ने कहा कि चालू वित्त वर्ष के दौरान करीब 2500 गांवों में जल स्रोत बनाकर कृषि योग्य भूमि बढ़ाई जाएगी ताकि किसानों की आय बढ़ाई जा सके। योजना के लिए कुल 1,245.45 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं।

उन्होंने कहा कि स्टालिन ने तीन लक्ष्य दिए हैं- अतिरिक्त 11.75 हेक्टेयर भूमि खेती के लिए, 10 लाख हेक्टेयर फसल क्षेत्र को 10 वर्षों में दोगुना करना और खाद्यान्नों और वाणिज्यिक फसलों जैसे नारियल, कपास, सूरजमुखी, और गन्ना जैसी फसलों में कृषि उत्पादकता में तमिलनाडु को देश में पहले तीन स्थानों पर लाना है। पन्नीरसेल्वम ने कहा कि सरकार की योजना अगले दस वर्षों में 11.75 हेक्टेयर बंजर भूमि को कृषि योग्य भूमि में बदलने की है और शुद्ध बोए गए क्षेत्र को 75 प्रतिशत तक बढ़ाने के लिए बाजरा, दलहन, तिलहन, सब्जियां और फल जैसी फसलें उगाई जाएंगी।


उन्होंने कहा कि जैविक खेती अपनाने वाले किसानों को इनपुट सब्सिडी के प्रावधान से प्रोत्साहित किया जाएगा। 'जैविक कृषि विकास योजना' की नेक परियोजना चालू वर्ष के दौरान क्रियान्वित की जाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार कृषि स्नातकों को उद्यमी बनाने पर ध्यान केंद्रित करेगी और इस धारणा को पोषित करने का भी प्रयास करेगी कि कृषि एक महान पेशा है ताकि शिक्षित युवा खेती को अगले स्तर तक ले जा सकें। बाजरा की मांग बढ़ने के साथ पनीरसेल्वम ने कहा कि इसका उत्पादन बढ़ाने के लिए बाजरा मिशन लागू किया जाएगा।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia