बिहार में जल्द ही फिर हो सकता है चुनाव, तेजस्वी ने आरजेडी नेताओं को तैयार रहने को कहा

तेजस्वी ने पार्टी की पुरानी परंपरा में भी बदलाव के संकेत देते हुए कहा कि अब पार्टी की परंपरा में बदलाव की जरूरत है। पुरानी परंपरा से पार्टी का भला नहीं होगा। वहीं आरजेडी के एक नेता ने बताया कि बैठक में किसान आंदोलन को लेकर भी चर्चा हुई। बैठक में कहा गया है कि सभी को सड़कों पर उतरना होगा।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

बिहार विधानसभा चुनाव में विपक्षी दलों के महागठबंधन का नेतृत्व कर रहे राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के नेताओं ने हार की समीक्षा के लिए सोमवार को एक बैठक की। इस दौरान आरजेडी के नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा कि बिहार में 2021 में फिर से चुनाव हो सकता है, जिसके लिए हमें तैयार रहना होगा। तेजस्वी ने बीजेपी और जेडीयू के गठबंधन को मजबूरी का गठबंधन बताते हुए कहा कि, "यह गठबंधन कभी भी टूट सकता है और चुनाव हो सकता है। इसके लिए हमें तैयार रहना होगा।"

बैठक के बाद पत्रकारों से चर्चा करते हुए तेजस्वी यादव ने कहा, "हमें सभी वर्गो का वोट मिला है। कुछ सीटों पर भितरघात के चलते हम हारे। एक-एक सीट पर चार-चार प्रत्याशी खड़े हो गए। व्यक्तिगत लाभ के लिए कुछ लोगों ने भितरघात किया। पार्टी हित नहीं देखा। जिन सीटों पर हम जीत सकते थे वहां भी निराशा हाथ लगी। सामने के शत्रु से तो लड़ा जा सकता है, लेकिन भीतर के शत्रु से नहीं, इसलिए अगली लड़ाई के लिए सभी तैयार रहें। एकजुट रहें।"

तेजस्वी ने पार्टी की पुरानी परंपरा में भी बदलाव के संकेत देते हुए कहा कि अब पार्टी की परंपरा में बदलाव की जरूरत है। पुरानी परंपरा से पार्टी का भला नहीं होगा। वहीं आरजेडी के एक नेता ने बताया कि बैठक में किसान आंदोलन को लेकर भी चर्चा हुई। बैठक में कहा गया है कि सभी को सड़कों पर उतरना होगा।

आज की बैठक में प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह समेत सभी आरजेडी विधायक, हालिया चुनाव में हारे प्रत्याशी और पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारी मौजूद रहे। सूत्रों के मुताबिक आरजेडी के वरिष्ठ नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी ने भी हार के कारण बताए। उन्होंने मतदान केंद्रों पर पोलिंग एजेंटों के समय पर नहीं पहुंचने को हार का कारण बताया। बता दें कि इस बैठक के ठीक पहले तेजस्वी यादव शनिवार को रांची गए थे और वहां अपने पिता और पार्टी प्रमुख लालू प्रसाद यादव से मुलाकात की थी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


लोकप्रिय