बिहार में BJP का बढ़ा टेंशन, नीतीश के करीबी उपेंद्र कुशवाहा से मिले RJD प्रवक्ता, चर्चाओं का बाजार गर्म

आरजेडी नेता मृत्युंजय तिवारी शनिवार को अचानक पटना में उपेंद्र कुशवाहा के आवास पहुंचे, जहां दोनों के बीच लंबी चर्चा हुई। इस मुलाकात के बाद जेडीयू नेता कुशवाहा का कोई बयान तो सामने नहीं आया, लेकिन तिवारी इसे निजी मुलाकात बता रहे हैं, पर अटकलें तेज हो गई हैं।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

बिहार की मुख्य विपक्षी पार्टी आरजेडी की तरफ से सीएम नीतीश कुमार को राज्य हित के मुद्दों पर समर्थन देने के ऑफर के बीच शनिवार को आरजेडी प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने जेडीयू के वरिष्ठ नेता और नीतीश के करीबी उपेंद्र कुशवाहा से मुलाकात की है, जिसके बाद बीजेपी के टेंशन बढ़ गई है।

इस मुलाकत को आरजेडी नेता मृत्युंजय तिवारी भले ही निजी बता रहे हों, लेकिन अब इसके सियासी मायने निकाले जाने लगे हैं। दरअसल तिवारी शनिवार को अचानक कुशवाहा के पटना स्थित आवास पहुंचे, जहां दोनों नेताओं के बीच लंबी चर्चा हुई। इस मुलाकात के बाद जेडीयू नेता कुशवाहा का कोई बयान सामने नहीं आया है, लेकिन तिवारी इसे निजी मुलाकात बता रहे हैं।


उन्होंने कहा कि नए वर्ष के मौके पर वे जेडीयू नेता को शुभकामनाएं देने आए थे। राजनीति चर्चा के संबंध में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि जब दो दलों के लोग मिलते हैं तो ऐसी बातें होना स्वाभाविक ही है। उन्होंने यह भी कहा कि उन्होंने जातिगत जनगणना कराए जाने के जेडीयू नेता के स्टैंड के लिए धन्यवाद भी दिया। उन्होंने कहा कि तेजस्वी यादव का स्पष्ट संदेश है कि जातीय जनगणना के मुद्दे पर जो भी साथ आना चाहेंगे, उनका स्वागत करेंगे।

गौरतलब है कि दो दिन पूर्व ही आरजेडी के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने कहा था कि जातीय जनगणना पर नीतीश के साथ आरजेडी खड़ी रहेगी, लेकिन नीतीश के सहयोगी दल जनगणना पर अलग राय रख रहे हैं, ऐसे में जो मंत्री नीतीश कुमार की नीति का समर्थन नहीं करते, उन्हें हटा देना चाहिये। यह मुख्यमंत्री के अधिकार क्षेत्र में है। बिहार के हित की बात जहां भी होगी वहां उनकी पार्टी नीतीश के साथ खड़ी रहेगी।


बहरहाल, आरजेडी के प्रवक्ता और जेडीयू के वरिष्ठ नेता के इस मुलाकात को मात्र संयोग नहीं माना जा सकता है। अब देखने वाली बात होगी कि आने वाले दिनों में इन नेताओं की मुलाकत बिहार की सियासत में क्या हलचल मचाती है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia