घाटी में टारगेट किलिंग से दहशत का माहौल! कश्मीर छोड़कर भागे सैकड़ों हिंदू परिवार, कहा- हम भयभीत हैं

कश्मीरी समुदाय के एक स्थानीय नेता के मुताबिक हाल ही में एक स्कूल शिक्षिका की हत्या होने के बाद से इलाके के लगभग सौ परिवार कश्मीर छोड़कर जा चुके हैं।

फोटो: Getty Images
फोटो: Getty Images
user

डॉयचे वेले

कश्मीरी हिंदू समुदाय के बहुत से लोग अब वहां डर के साये में जी रहे हैं क्योंकि हाल के दिनों में कई लोगों की निशाना बनाकर हत्याएं की गई हैं। मंगलवार को उग्रवादियों ने 36 वर्षीय शिक्षिका रजनी बाला की कुलगाम जिले के सरकारी स्कूल के सामने ही गोली मारकर हत्या कर दी थी।

उत्तरी कश्मीर के बारामूला में हिंदू कश्मीरी पंडित कॉलोनी के अध्यक्ष अवतार कृष्ण बट कहते हैं कि मंगलवार की घटना के बाद से कॉलोनी में रहने वाले 300 परिवारों में से लगभग आधे जा चुके हैं। उन्होंने बताया, "कल की हत्या के बाद वे लोग भयभीत थे। हम भी कल तक चले जाएंगे क्योंकि फिलहाल हम सरकार की प्रतिक्रिया का इंतजार कर रहे हैं हमने सरकार से आग्रह किया था कि हमें कश्मीर के बाहर कहीं बसा दिया जाए।”

स्थानीय नागरिकों का कहना है कि पुलिस ने श्रीनगर में सुरक्षा बढ़ा दी है और उन इलाकों को सील कर दिया है जहां कश्मीर पंडित सरकारी कर्मचारी रहते हैं। स्थानीय प्रशासन ने लोगों के घर छोड़कर भागने पर कोई टिप्पणी नहीं की है। उप राज्यपाल मनोज सिन्हा ने पिछले महीने ही लोगों को भरोसा दिलाया था कि कश्मीरी पंडितों की सुरक्षा के लिए जरूरी कदम उठाए जाएंगे।


उग्रवादी कश्मीरी पंडितों और अन्य तबकों के लोगों को चुन-चुन कर निशानाबना रहे हैं। पिछले महीने ही स्थानीय सरकारी दफ्तर में काम करने वाले एक कश्मीरी पंडित को उनके कार्यालय में घुसकर गोली मार दी गई थी। उस हत्या के बाद स्थानीय लोग और पीड़ित के सहकर्मियों ने विरोध प्रदर्शन किया था और लोगों को कश्मीर घाटी के बाहर कहीं बसाने की मांग की थी।

बुधवार को कश्मीर घाटी के पुलिस प्रमुख विजय कुमार ने मीडिया को बताया कि उस हत्या के लिए जिम्मेदार लोगों को मार दिया गया है। रॉयटर्स से बातचीत में कुमार ने कहा, "हमने उन सभी उग्रवादियों को मार दिया है जो पिछली हत्याओं को लिए जिम्मेदार थे।” 1989 में कश्मीर में उग्रवाद की शुरुआत से ही कश्मीर पंडित मारे जाने या भाग जाने को मजबूर हैं। मुस्लिम बहुल कश्मीर में रहने वाले करीब ढाई लाख पंडित 1989 के बाद से घाटी छोड़कर जा चुके हैं।

भारतीय जनता पार्टी के लिए कश्मीर पंडित बड़ा मुद्दा रहे हैं और नरेंद्र मोदी सरकार चाहती है कि कश्मीरी पंडितों की घर वापसी हो। इसी कोशिश के तहत हाल के सालों में 3,400 से ज्यादा हिंदुओं को कश्मीर में सरकारी नौकरियां दी गई हैं। लेकिन अब ये कश्मीर घाटी से बाहर कहीं बसाए जाने की मांग कर रहे हैं।

एक प्रदर्शनकारी अमित ने कहा, "हम यहां सुरक्षित नहीं हैं। हमारे सहयोगी को उसके दफ्तर में गोली मार दी गई। हमारी मांग है कि हमें यहां से कहीं और बसाया जाए क्योंकि यहां तो कभी ना कभी हत्या होती रहती है।”

मुस्लिम भी हैं निशाने पर

उग्रवादियों ने सिर्फ हिंदुओं को निशाना नहीं बनाया है बल्कि पिछले कुछ महीनों में कई मुस्लिम भी निशाना बनाकर की गई हत्याओं का शिकार हुए हैं। पिछले हफ्ते ही एक श्रीनगर में रहने वाली एक टीवी कलाकार को गोली मार दी गई थी। 35 वर्षीय अमरीन बट को उग्रवादियों ने नजदीक से गोली मारी। घटना में उस कलाकार का 10 वर्षीय भतीजा भी घायल हो गया था। बट सोशल मीडिया पर भी खासी सक्रिय थीं।

पिछले महीने भारतीय अदालत ने कश्मीरी अलगाववादी नेता यासीन मलिक को आतंकवादी गतिविधियों के लिए धन उपलब्ध कराने के एक मामले में उम्र कैद सुनाईथी। मलिक को दोषी करार दिए जाने के बाद से ही घाटी में हिंसक गतिविधियां बढ़ी हुई हैं लेकिन इस साल की शुरुआत से ही हत्याओं का सिलसिला जारी है। उग्रवादियों ने इस साल अब तक एक दर्जन से ज्यादा लोगों को निशाना बनाकर मार डाला है। मरने वालों में ज्यादातर पुलिसकर्मी थे।


जवाब में सुरक्षाबलों ने भी अपने अभियान तेज कर दिए हैं। वे अब सिर्फ उग्रवादियों को नहीं बल्कि उनके मुखबिरों को भी निशाना बना रहे हैं। इस साल 78 कथित उग्रवादियों को मारा जा चुका है। पिछले साल 193 कथित उग्रवादियों को मारा गया था जबकि 2020 में सुरक्षाबलों के हाथों मारे गए संदिग्ध उग्रवादियों की संख्या 232 थी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia