सरकार ने मानी कोविड-19 के सामुदायिक प्रसार की बात, स्वास्थ्य मंत्री बोले- कुछ जिलों और राज्यों में ही हुआ है

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि पश्चिम बंगाल समेत विभिन्न राज्यों के कुछ इलाकों खासकर घनी आबादी वाले इलाकों में सामुदायिक प्रसार हुआ है लेकिन ऐसा देश भर में नहीं हो रहा है। यह राज्यों के कुछ जिलों तक सीमित है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

विनय कुमार

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने रविवार को आखिरकार स्वीकार कर लिया कि भारत में कोविड-19 सामुदायिक प्रसार के चरण में पहुंच चुका है। हालांकि, ऐसा केवल कुछ जिलों और राज्यों में ही हुआ है। यह बयान सोमवार (12 अक्टूबर) को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की उस स्वीकारोक्ति के बाद आया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि राज्य में कोविड-19 का सामुदायिक प्रसार शुरू हो गया है।

हर्षवर्धन का यह बयान उनके साप्ताहिक वेबिनार कार्यक्रम 'संडे संवाद' के दौरान पूछे गए एक प्रश्न के जवाब में आया। उनसे पूछा गया था कि "ममता बनर्जी ने कहा है कि राज्य में सामुदायिक प्रसार होने के उदाहरण सामने आए हैं। क्या अन्य राज्यों में भी सामुदायिक प्रसार हुआ है?"

इस पर मंत्री ने जवाब दिया, "पश्चिम बंगाल समेत विभिन्न राज्यों के कुछ इलाकों खासकर घनी आबादी वाले इलाकों में सामुदायिक प्रसार हुआ है लेकिन ऐसा देश भर में नहीं हो रहा है। यह राज्यों के कुछ जिलों तक सीमित है।"

यह स्वीकारोक्ति महीनों के इनकार के बाद आई है। यह पहली बार है कि जब स्वास्थ्य मंत्री ने घातक वायरस के सामुदायिक प्रसार की बात को स्वीकार किया है।

इस सप्ताह की शुरूआत में बनर्जी ने पश्चिम बंगाल के लोगों से आगामी दुर्गा पूजा के दौरान सावधानी बनाए रखने का आग्रह किया था। बनर्जी ने कहा था, "मैं हर किसी को त्योहारी सीजन के दौरान कोविड-19 सुरक्षा प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करने के लिए कहती हूं क्योंकि राज्य में इसके सामुदायिक प्रसार के भी उदाहरण हैं।"

जुलाई में स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने एक मार्गदर्शन दस्तावेज जारी किया था जिसमें अनजाने में यह बात भी सामने आ गई कि भारत में अप्रैल के शुरू में सामुदायिक प्रसार हुआ था। बाद में इस दस्तावेज को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की वेबसाइट से हटा लिया गया था।

लोकप्रिय
next