हाईकोर्ट ने पंजाब पुलिस को लगाई फटकार, पूछा- अमृतपाल सिंह कैसे भाग गया, आपके 80 हजार पुलिस वाले क्‍या कर रहे थे?

बता दें कि पंजाब पुलिस की तमाम कोशिशों के बाद भी अमृतपाल सिंह अब भी फरार है। बीते चार दिन से पुलिस उसकी तलाशी में जुटी हुई है। उसके कई सहयोगियों को गिरफ्तार किया गया है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

अमृतपाल सिंह पंजाब पुलिस के गिरफ्त से अब भी दूर है। पिछले चार दिन से पुलिस अमृतपाल सिंह की तलाश में जुटी हुई है। लेकिन अभी तक वह पकड़ा नहीं जा सका है। वहीं इस मामले को लेकर पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने पंजाब पुलिस को फटकार लगाई है। हाईकोर्ट ने मंगलवार को अमृतपाल सिंह के “भागने” पर “खुफिया विफलता” के लिए राज्य सरकार की भी खिंचाई की है। हाईकोर्ट ने सवाल किया, " पंजाब पुलिस में 80 हज़ार जवान, फिर भी अमृतपाल कैसे फरार है? आपके 80000 पुलिस वाले क्या कर रहे थे ? वो कैसे भाग गया।" कोर्ट ने कहा कि यह पंजाब पुलिस का इंटेलीजेंसी फेल्‍योर (खुफिया तंत्र की नाकामी ) है। सुनवाई के दौरान पंजाब पुलिस ने कोर्ट को बताया कि अमृतपाल सिंह पर भी एनएसए लगाया गया है और उसने अब तक अमृतपाल के 120 से ज़्यादा सहयोगियों को पकड़ा है। कोर्ट ने कहा कि हमें पुलिस की कहानी पर भरोसा नहीं है। कोर्ट ने पंजाब पुलिस को स्‍टेटस रिपोर्ट दाखिल करने को कहा है।

बता दें कि पंजाब पुलिस की तमाम कोशिशों के बाद भी अमृतपाल सिंह अब भी फरार है। बीते चार दिन से पुलिस उसकी तलाशी में जुटी हुई है। उसके कई सहयोगियों को गिरफ्तार किया गया है। वह जिस कार में फरार हुआ था, उसे भी पुलिस ने बरामद कर लिया है। अमृतपाल के साथ उसके दो और सहयोगियों के खिलाफ राष्‍ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) लगाए जाने की खबर है। पुलिस सूत्रों के हवाले से एनडीटीवी की खबर के मुताबिक अमृतपाल के दो सहयोगियों कुलवंत सिंह और गुर औजला पर अब एनएसए लगाया गया है। इन दोनों को ही गिरफ्तार करके असम के डिब्रूगढ़ भेजा गया है। इसके साथ ही अमृतपाल के अबतक सात सहयोगियों पर एनएसए लगाया जा चुका है, इसमें गुरमीत सिंह बुक्‍कनवाला, बसंत सिंह, भगवंत सिंह, दलजीत सिंह कलसी, हरजीत सिंह के अलावा कुलवंत सिंह और गुर औजला शामिल हैं।


सीएम भगवंत मान ने वीडियो जारी कर लोगों से की ये अपील

पंजाब पुलिस द्वारा अमृतपाल सिंह और उसके समर्थकों के खिलाफ एक्शन लिए जाने के चार दिन बाद सीएम भगवंत मान ने राज्य के लोगों को वीडियो के जरिए संदेश दिया है। 6.25 मिनट लंबे वीडियो में उन्होंने अमन और शांति का संदेश दिया है। उन्होंने कहा कि पंजाब के लोग भाईचारे के लिए जाने जाते हैं लेकिन अगर कोई इसपर बुरी नज़र डालता है तो पंजाबी ये बर्दाश्त नहीं करते।

मुख्यमंत्री भगवंत मान ने आगे कहा कि पिछले दिनों कुछ तत्व ऐसे थे जो विदेशी ताकतों के हाथ चढ़कर पंजाब में माहौल खराब करने की, हेट स्पीच और कानून के खिलाफ बोल रहे थे। इनके खिलाफ कार्रवाई की गई है और ये पकड़े गए हैं। हमारे लिए प्राथमिकता किताबें हैं, कोई गैर समाजिक ताकत नहीं।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;