22 दलों के नेताओं ने चुनाव आयोग से की मुलाकात, सौंपा ज्ञापन, कहा- पहले वीवीपैट पर्चियों को गिनने की मांग 

22 विपक्षी दलों के नेताओं ने चुनाव आयोग को ज्ञापन सौंपा है। उन्होंने मांग कि अगर वीवीपीएटी सत्यापन के दौरान कहीं भी कोई गड़बड़ी पाई जाती है, तो उस विधानसभा क्षेत्र के सभी मतदान केंद्रों के वीवीपैट के पेपर स्लिप की 100 प्रतिशत गिनती की जानी चाहिए।

फोटो: विपिन 
फोटो: विपिन

नवजीवन डेस्क

ईवीएम और वीवीपैट को लेकर दिल्ली के कंस्टीट्यूशन क्लब में 22 विपक्षी दलों की बैठक हुई। बैठक के बाद सभी नेता ईवीएम औ वीवीपैट पर अपनी चिंता को लेकर चुनाव आयोग से मिलने पहुंचे। विपक्षी नेताओं का कहना है कि अगर किसी पोलिंग बूथ में ईवीएम और वीवीपैट का सही मिलान न हो तो पूरे विधानसभा क्षेत्र में दोबारा गिनती की जाए। इस बैठक में कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद, समाजवादी पार्टी के नेता रामगोपाल यादव, सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी, टीएमसी नेता डेरेक ओ ब्रायन और आरजेडी नेता मनोज झा समेत कई नेता मौजूद हैं।

विपक्षी दलों के नेताओं ने चुनाव आयोग को ज्ञापन सौंपा है। ज्ञापन में यह मांग की गई है कि, “अगर वीवीपीएटी सत्यापन के दौरान कहीं भी कोई गड़बड़ी पाई जाती है, तो उस विधानसभा क्षेत्र के सभी मतदान केंद्रों के वीवीपैट के पेपर स्लिप की 100 प्रतिशत गिनती की जानी चाहिए।” अंतिम राउंड में वीवीपैट से मिलान की जगह शुरूआत में ही हो गिनती।

अभिषेक मनु सिंघवी ने मीडिया से बात करते हुए कहा, “हमने पिछले 1.5 महीनों में इन्हीं मुद्दों को उठाया था। हमने चुनाव आयोग से पूछा कि उन्होंने जवाब क्यों नहीं दिया। चुनाव आयोग ने हमें करीब एक घंटे तक सुना और हमें आश्वासन दिया कि वे कल सुबह फिर से मिलेंगे, ताकि मुख्य रूप से इन दो मुद्दों पर विचार किया जा सके।”

आरएलएसपी अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा ने कहा, “एग्जिट पोल सरकारी षड्यंत्र का हिस्सा है। सारे हथकंडे अपनाए जा रहे हैं। हम इस एग्जिट पोल को सिरे से खारिज कर रहे हैं। पहले बूथ लूट जाता था अब रिजल्ट की लूट हो रही है। मोदी है तो रिजल्ट लूट भी मुमकिन है।”

उपेन्द्र कुशवाहा ने कहा कि लोगों में आक्रोश है। सड़कों पर खून बहेगा। इसकी जवाबदेही सरकार की होगी।

बीएसपी के सतीश मिश्रा ने कहा कि ईवीएम से जुड़े सभी वीडियोज चुनाव आयोग को दिखाएंगे और उनसे जवाब मांगेंगे। वहीं समाजवादी पार्टी के नेता रामगोपाल यादव ने कहा कि विपक्ष डरा हुआ नहीं है, जो डरे हुए हैं वो गुफा में बैठ रहे हैं।

लोकप्रिय