गायब हुआ ‘लैंडर विक्रम’ चांद पर है सुरक्षित, अंतरिक्ष से मिले तस्वीरों से हुआ खुलासा, जानिए अब आगे क्या होगा?

इसरो ने चांद की सतह पर मौजूद लैंडर विक्रम की लोकेशन का पता लगा लिया है। ऑर्बिटर द्वारा खिंची गई थर्मल इमेज के जरिए विक्रम की लोकेशन का पता चला है, हालांकि इससे अभी तक संपर्क नहीं हो पाया है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

इसरो ने चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम से जुड़ी एक बड़ी खुशखबरी दी है। इसरो के मुताबिक विक्रम लैंडर सुरक्षित है और उसे कोई नुकसान नहीं पहुंचा है। इसरो के अधिकारी ने कहा कि हम लैंडर के साथ संचार को फिर से स्थापित करने का हर संभव प्रयास कर रहे हैं।

इसरो के चीफ के सिवन ने जानकारी देते हुए कहा कि चांद की सतह पर विक्रम लैंडर की लोकेशन मिल गई है और ऑर्बिटर ने लैंडर की एक थर्मल इमेज क्लिक की है, लेकिन अभी तक कोई संपर्क नहीं हो पाया है। हम विक्रम से लगातार संपर्क करने में जुटे हुए हैं।


खबरों के मुताबिक, विक्रम लैंडर अपने तय स्थान से करीब 500 मीटर दूर चांद की जमीन पर गिरा पड़ा है, लेकिन अगर उससे संपर्क स्थापित हो जाए तो वह वापस अपने पैरों पर खड़ा हो सकता है। लेकिन उसके लिए जरूरी है कि उसके कम्युनिकेशन सिस्टम से संपर्क हो जाए और उसे कमांड रिसीव हो सके।

बता दें कि चंद्रयान-2 को आन्ध्र प्रदेश के श्री हरिकोटा स्थित ‘भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन’ (इसरो) से 22 जुलाई को लांच किया गया था, जिसके लगभग डेढ़ महीने बाद कई चरणों को सफलतापूर्वक पूरा कराते हुए इसरो वैज्ञानिकों ने ऑर्बिटर से लैंडर विक्रम को अलग कराया था। शनिवार देर रात अपने तय लैंडिंग समय से महज कुछ ही मिनट पहले इसरो के कंट्रोल रूम और लैंडर के बीच संपर्क टूट गया था। तभी से संपर्क करने की कोशिश जारी है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 09 Sep 2019, 5:27 PM