कोविड महामारी की तीसरी लहर अभी खत्म नहीं हुई, WHO प्रमुख ने ओमिक्रॉन को हल्का समझने पर भी दी चेतावनी

जिनेवा में डब्ल्यूएचओ महानिदेशक ने कहा कि ओमिक्रॉन वेरिएंट के पिछले एक सप्ताह में दुनिया भर में 18 मिलियन नए केस आए हैं। उन्होंने कहा कि यह भ्रामक है कि यह एक हल्की बीमारी है। कोई गलती न करें, ओमिक्रान अस्पताल में भर्ती होने और मौतों का कारण बन रहा है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के महानिदेशक ट्रेडोस एडनॉम घेब्रेयसस ने विश्व नेताओं को चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि कोविड-19 महामारी 'कहीं खत्म नहीं हुई है।' बीबीसी ने बताया कि डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने इस धारणा के खिलाफ आगाह किया कि नया प्रमुख ओमिक्रॉन वेरिएंट काफी हल्का है और इसने वायरस से उत्पन्न खतरे को समाप्त कर दिया है।

डब्ल्यूएचओ ने यह चेतावनी तब दी है, जब कुछ यूरोपीय देशों में रिकॉर्ड नए मामले सामने आ रहे हैं और इसी बीच इंग्लैंड जैसे देश ने सभी तरह की कोविड पाबंदियों को हटाने का फैसला लिया है। हालांकि डब्ल्यूएचओ महानिदेशक घेब्रेयसस ने किसी देश का नाम तो नहीं लिया, लेकिन इंग्लैंड के फैसले के फौरन बाद आई उनकी चेतावनी उसी ओर संकेत करती है।


जिनेवा में डब्ल्यूएचओ मुख्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान बोलते हुए ट्रेडोस ने कहा कि ओमिक्रॉन वेरिएंट के पिछले एक सप्ताह में दुनिया भर में 18 मिलियन नए संक्रमण सामने आए हैं। उन्होंने कहा कि यह भ्रामक है कि यह एक हल्की बीमारी है। उन्होंने कहा, "कोई गलती न करें, ओमिक्रान अस्पताल में भर्ती होने और मौतों का कारण बन रहा है।"

उन्होंने वैश्विक नेताओं को चेतावनी दी कि 'विश्व स्तर पर ओमिक्रॉन की अविश्वसनीय वृद्धि के साथ, नए वैरिएंट उभरने की संभावना है, यही वजह है कि ट्रैकिंग और मूल्यांकन महत्वपूर्ण हैं। उन्होंने कहा, "मैं कई देशों के बारे में विशेष रूप से चिंतित हूं, जहां टीकाकरण की दर कम है, क्योंकि लोगों को गंभीर बीमारी और मृत्यु का खतरा कई गुना अधिक होता है, यदि वे टीकाकरण नहीं करवाते हैं।"


डब्ल्यूएचओ के आपात निदेशक, माइक रयान ने भी चेतावनी दी है कि ऑमिक्रोन की बढ़ी हुई संचरण क्षमता से अस्पताल में भर्ती होने और मौतों में वृद्धि होने की संभावना है, खासकर उन देशों में जहां कम लोगों को टीका लगाया जाता है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia