उत्तराखंड में नहीं है कोई हाई सिक्योरिटी जेल, कुख्यात सुनील राठी को शासन ने वापस ले जाने के लिए कहा

गृह विभाग की ओर से यूपी पुलिस और दिल्ली पुलिस को भेजे गए पत्र में कहा गया है कि यहां कैदी को रखने के लिए हाई सिक्योरिटी जेल नहीं है। ऐसे में उसे वापस तिहाड़ भेजना जरूरी है। कैदी को वापस तिहाड़ भेजने की व्यवस्था में सहयोग दिया जाए।

उत्तराखंड शासन ने कोई हाई सिक्योरिटी जेल नहीं होने के कारण कुख्यात सुनील राठी को वापस ले जाने के लिए कहा
उत्तराखंड शासन ने कोई हाई सिक्योरिटी जेल नहीं होने के कारण कुख्यात सुनील राठी को वापस ले जाने के लिए कहा
user

नवजीवन डेस्क

उत्तराखंड में कोई हाई सिक्योरिटी जेल नहीं है। प्रदेश के गृह विभाग ने राज्य में कोई हाई सिक्योरिटी जेल नहीं होने का हवाला देते हुए उत्तर प्रदेश और दिल्ली पुलिस को पत्र लिखकर हरिद्वार जेल में बंद कुख्यात सुनील राठी को वापस तिहाड़ ले जाने में सहयोग करने के लिए कहा है।

दरअसल दिल्ली की तिहाड़ जेल में हुई घटना के बाद अब प्रदेश सरकार भी कैदियों की सुरक्षा को लेकर चिंतित हुई है। इसी कड़ी में हरिद्वार जेल में बंद कुख्यात सुनील राठी को वापस तिहाड़ जेल भेजने की कवायद शुरू हो गई है। गृह विभाग ने प्रदेश में हाई सिक्योरिटी जेल नहीं होने का हवाला देते हुए उत्तर प्रदेश पुलिस और दिल्ली पुलिस को पत्र लिखकर सुनील राठी को वापस तिहाड़ ले जाने में सहयोग करने को कहा है।

सुनील सिंह राठी फिलहाल हरिद्वार जेल में बंद

कुख्यात सुनील सिंह राठी विभिन्न आपराधिक मामलों में तिहाड़ जेल में सजा काट रहा था। गत वर्ष अप्रैल में एक मामले की सुनवाई के लिए उसे तिहाड़ जेल से उत्तराखंड लाया गया था। तब से ही उसे वापस नहीं भेजा जा सका है। उसे फिलहाल हरिद्वार जेल में रखा गया है।


बड़े अपराधियों के लिए उच्च सुरक्षा जेल नहीं

तिहाड़ जेल में हाल में हुई टिल्लू ताजपुरिया की हत्या की घटना के बाद से प्रदेश की जेलों में ऐसी घटना की संभावना ने चिंता बढ़ा दी है। उस पर से ऐसे बड़े अपराधियों के लिए हाई सिक्योरिटी जेल नहीं होने ने परेशानी और बढ़ गई है। जेल में सुनील राठी के लिए अतिरिक्त सुरक्षाकर्मी लगाए गए हैं। ऐसे में हरिद्वार जेल प्रशासन ने शासन को पत्र लिखकर सुनील राठी को वापस भेजने का अनुरोध किया था।

सुनील राठी को तिहाड़ तक भेजने के लिए गृह विभाग स्वयं को सक्षम महसूस नहीं कर रहा है। ऐसे में अब गृह विभाग की ओर से उत्तर प्रदेश और दिल्ली पुलिस को पत्र भेजा गया है। इसमें कहा गया है कि यहां कैदी को रखने के लिए हाई सिक्योरिटी जेल नहीं है। ऐसे में उसे वापस तिहाड़ भेजना जरूरी है। कैदी को वापस तिहाड़ भेजने की व्यवस्था में सहयोग दिया जाए।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


/* */