कोई साजिश नहीं, इस वजह से क्रैश हुआ था बिपिन रावत का हेलीकॉप्टर, वायुसेना ने जांच रिपोर्ट में किया बड़ा खुलासा

ट्राई-सर्विसेज कोर्ट ऑफ इंक्वायरी रिपोर्ट के प्रारंभिक निष्कर्षों को साझा करते हुए वायुसेना ने कहा कि हेलीकॉप्टर दुर्घटना घाटी में मौसम की स्थिति में अप्रत्याशित बदलाव के कारण हुई। बादलों ने पायलट के व्यू को ब्लॉक कर दिया था, जिससे हेलीकॉप्टर क्रैश कर गया।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

देश के पहले सीडीएस बिपिन रावत, उनकी पत्नी और 12 सैन्य स्टाफ की पिछले साल एक हेलीकॉप्टर क्रैश में मौत के बाद हादसे की जांच के लिए गठित भारतीय वायु सेना की कोर्ट ऑफ इंक्वायरी की रिपोर्ट आ गई है। जांच रिपोर्ट में दुर्घटना का कारण मौसम में आई खराबी को बताया गया है। किसी तरह की मैकेनिकल विफलता, गड़बड़ी या लापरवाही से इनकार किया गया है।

देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत और 12 सशस्त्र बलों के जवान पिछले साल 8 दिसंबर को तमिलनाडु के कुन्नूर के पास हेलीकॉप्टर दुर्घटना में मारे गए थे। जनरल रावत नीलगिरी हिल्स के वेलिंगटन में डिफेंस सर्विसेज स्टाफ कॉलेज के स्टाफ कोर्स के फैक्लटी और स्टूडेंट ऑफिसर्स को संबोधित करने के लिए जा रहे थे।


ट्राई-सर्विसेज कोर्ट ऑफ इंक्वायरी रिपोर्ट के प्रारंभिक निष्कर्षों को साझा करते हुए भारतीय वायुसेना ने कहा कि हेलीकॉप्टर दुर्घटना घाटी में मौसम की स्थिति में अप्रत्याशित बदलाव के कारण हेलीकॉप्टर का बादलों में प्रवेश का परिणाम थी। इसमें कहा गया है कि दुर्घटना घाटी में मौसम की स्थिति में अप्रत्याशित परिवर्तन के कारण बादलों में प्रवेश का परिणाम थी, जिसके कारण पायलट एक निर्धारित स्थान को लेकर भटक गया।

कोर्ट ऑफ इंक्वायरी ने दुर्घटना के कारण के रूप में मैकेनिकल फेलियर (यांत्रिक विफलता), किसी प्रकार की गड़बड़ी या लापरवाही को खारिज कर दिया है। जांच दल ने दुर्घटना के सबसे संभावित कारण का पता लगाने के लिए सभी उपलब्ध गवाहों से पूछताछ के अलावा उड़ान डेटा रिकॉर्डर और कॉकपिट वॉयस रिकॉर्डर का विश्लेषण किया। वायुसेना ने कहा, अपने निष्कर्षों के आधार पर, कोर्ट ऑफ इंक्वायरी ने कुछ सिफारिशें की हैं जिनकी समीक्षा की जा रही है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia