बालासोर ट्रेन दुर्घटना में कई स्तरों पर हुई थी चूक, रेलवे की जांच रिपोर्ट में खुलासा

सूत्रों ने कहा कि बालासोर ट्रेन दुर्घटना की जांच करने वाले दक्षिण पूर्वी सर्कल के सीआरएस एएम चौधरी ने अपनी रिपोर्ट में पाया है कि सिग्नल एंड टेली कम्युनिकेशन विभाग में कई स्तरों पर खामियां इसके (हादसे के) लिए जिम्मेदार थीं।

बालासोर ट्रेन दुर्घटना में कई स्तरों पर हुई थी चूक, रेलवे की जांच रिपोर्ट में खुलासा
बालासोर ट्रेन दुर्घटना में कई स्तरों पर हुई थी चूक, रेलवे की जांच रिपोर्ट में खुलासा
user

नवजीवन डेस्क

ओडिशा में बालासोर के पास हुई भीषण ट्रिपल ट्रेन दुर्घटना की जांच कर रहे रेल सुरक्षा आयुक्त (सीआरएस) ने अपनी रिपोर्ट में भारतीय रेलवे के सिग्नलिंग और टेलीकॉम विभाग में कई स्तरों पर हुई खामियों को जिम्मेदार ठहराया है। रिपोर्ट के अनुसार, ये ट्रेन हादसा नॉर्थ सिग्नल गुमटी पर किए गए सिग्नलिंग-सर्किट-अल्टरेशन में हुई खामियों और स्टेशन के गेट नंबर 94 पर लेवल क्रॉसिंग के लिए इलेक्ट्रिक लिफ्टिंग बैरियर के प्रतिस्थापन से संबंधित सिग्नलिंग कार्य की वजह से हुआ।

हालांकि, रेल मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी इस रिपोर्ट पर चुप्पी साधे हुए हैं। सीआरएस के अलावा केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) भी ओडिशा ट्रेन हादसे की जांच कर रही है। सूत्रों ने कहा कि बालासोर ट्रेन दुर्घटना की जांच करने वाले दक्षिण पूर्वी सर्कल के सीआरएस एएम चौधरी ने अपनी रिपोर्ट में पाया है कि सिग्नल एंड टेली कम्युनिकेशन विभाग में कई स्तरों पर खामियां इसके (हादसे के) लिए जिम्मेदार थीं।


सूत्रों ने कहा कि रिपोर्ट में बताया गया है कि एलसी94 पर मरम्मत कार्य किया गया था। शाम 4.20 बजे कनेक्शन काटने का आदेश दिया गया था और 2 जून को उसी दिन शाम 4.50 बजे जोड़ दिया गया था। सूत्रों के मुताबिक, जबकि सिग्नल एंड टेली कम्युनिकेशन विभाग के कर्मचारी कनेक्शन होने के बावजूद सर्किट पर काम कर रहे थे।

रिपोर्ट में कहा गया है कि यह ट्रेन हादसा कई स्तरों पर चूक के कारण हुआ, जिसके चलते स्टेशन की अप लूप लाइन (कॉमन लूप) पर खड़ी मालगाड़ी से ट्रेन नंबर 12841 कोरोमंडल एक्सप्रेस की पीछे से टक्कर हो गई। हावड़ा-एसएमवीटी सुपरफास्ट एक्सप्रेस के आखिरी दो डिब्बे, जो उसी समय स्टेशन की डाउन मुख्य लाइन से गुजर रहे थे, कोरोमंडल एक्सप्रेस के पटरी से उतरे डिब्बों से टकरा गए और पलट गए। 2 जून की शाम को हुए इस हादसे में कम से कम 293 लोग मारे गए थे और 1000 से अधिक लोग घायल हुए थे।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;