ये गर्मी मार डालेगी! सरकार ने लू से बचाव के लिए जारी की एडवाइजरी, राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों को लिखा पत्र

देश में लू के बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्र सरकार ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को एडवाइजरी जारी की है। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने एडवाइजरी में नागरिकों को बताया है कि लू से बचाव के लिए और लू लगने की स्थिति में क्या करें, क्या न करें।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

बढ़ती गर्मी और कई स्थानों पर तापमान 46 डिग्री सेल्सियस को छूने के बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने रविवार को सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को गर्मी से संबंधित बीमारियों पर राष्ट्रीय कार्य योजना के बारे में एक पत्र लिखा। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने पत्र में सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को हीट वेव के मामलों के प्रभावी प्रबंधन के लिए सभी जिलों में हीट संबंधित बीमारियों पर दिशानिर्देश दस्तावेज राष्ट्रीय कार्य योजना का प्रसार करने के लिए कहा है।

भूषण ने पत्र में कहा, "1 मार्च से सभी राज्यों और जिलों में एकीकृत रोग निगरानी कार्यक्रम (आईडीएसपी) के तहत गर्मी से संबंधित बीमारियों पर दैनिक निगरानी शुरू की गई है। कृपया सुनिश्चित करें कि ये दैनिक निगरानी रिपोर्ट एनसीडीसी के साथ साझा की जाती है। दैनिक गर्मी अलर्ट जो आईएमडी द्वारा साझा किए जा रहे हैं साथ ही राज्यों के साथ एनसीडीसी अगले 3-4 दिनों के लिए गर्मी की लहर के पूर्वानुमान का संकेत देता है और जिला स्वास्थ्य सुविधा स्तर पर तुरंत प्रसारित किया जा सकता है।"

पत्र में आगे लिखा गया है कि राज्य के स्वास्थ्य विभाग को गर्मी की बीमारी पर चिकित्सा अधिकारियों, स्वास्थ्य कर्मचारियों, जमीनी स्तर के कार्यकर्ताओं के संवेदीकरण और क्षमता निर्माण और शीघ्र पहचान और प्रबंधन के प्रयास जारी रखने चाहिए।

"आवश्यक दवाओं, तरल पदार्थ, आइस पैक, ओआरएस और सभी आवश्यक उपकरणों की पर्याप्त मात्रा की उपलब्धता के लिए स्वास्थ्य सुविधा की तैयारियों की समीक्षा की जानी चाहिए। सभी स्वास्थ्य सुविधाओं में पर्याप्त पेयजल की उपलब्धता और महत्वपूर्ण क्षेत्रों में शीतलन उपकरणों के निरंतर कामकाज को सुनिश्चित किया जाना चाहिए।"

केंद्र ने राज्यों को सूचना, शिक्षा और संचार (आईईसी) के साथ-साथ समुदाय स्तर की जागरूकता सामग्री का उपयोग करने के लिए कहा है, ताकि लोग गर्मी की लहर से खुद को बचाने के लिए बरती जाने वाली सावधानियों के बारे में बता सकें।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia