बदला-बदला सा होगा इस बार बिहार चुनाव, पहली बार ऑनलाइन नामांकन, वोटिंग का समय भी बढ़ा

सबसे पहले तो इस बार बिहार विधानसभा चुनाव केवल तीन चरणों में रखा गया है। इससे पहले तक मतदान में धांधली पर नियंत्रण के लिए बिहार में चुनाव आम तौर पर तीन से ज्यादा चरणों में होते आए हैं। इससे पहले 2015 का विधानसभा चुनाव आयोग ने 5 चरणों में आयोजित किया गया था।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

चुनाव आयोग ने बिहार विधानसभा चुनाव की तारीखों का आज ऐलान कर दिया। दिल्ली में देश के मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने पूरे चुनाव कार्यक्रम का ऐलान किया। इस बार बिहार चुनाव दुनिया समेत देश पर छाए कोरोना वायरस संकट के बीच आयोजित किया जा रहा है। ऐसे में इस चुनाव में बहुत कुछ बदला-बदला सा होगा और बहुत कुछ पहली बार देखने को मिलेगा।

सबसे पहले तो इस बार बिहार विधानसभा चुनाव केवल तीन चरणों में रखा गया है। इससे पहले तक मतदान में धांधली पर नियंत्रण के लिए बिहार में चुनाव आम तौर पर तीन से ज्यादा चरणों में होते आए हैं। इससे पहले 2015 का विधानसभा चुनाव 5 चरणों में आयोजित किया गया था। लेकिन इस बार कोरोना संकट और बाढ़ की समस्या के बावजूद चुनाव को केवल तीन चरणों में रखा गया है।

खास बात है कि कोरोना संकट के कारण इस बार बिहार चुनाव में ऑनलाइन नामांकन भी होगा। हालांकि, उम्मीदवारों को नामांकन का प्रिंटआउट भी जमा करना होगा। वैसे ऑफलाइन नामांकन की सुविधा पहले की तरह उपलब्ध रहेगी। इसी के साथबिहार चुनाव में मतदान के लिए एक घंटे का समय बढ़ाया है। मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा कि कोरोना संकट के चलते वोटिंग की अवधि एक घंटे बढ़ाई गई है। बिहार में सुबह 7 से शाम 6 बजे तक मतदान होगा। हालांकि, यह सुविधा नक्सल प्रभावित इलाकों में नहीं होगी।

इसके अलावा मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने बताया कि कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए चुनाव में सोशल डिस्टेंसिंग के नियम का कड़ाई से पालन होगा। एक बूथ पर सिर्फ एक हजार मतदाता वोट डालेंगे। उन्होंने बताया कि बिहार चुनाव के लिए सात लाख सैनिटाइजर, छह लाख फेस शील्ड और 46 लाख मास्क का इंतजाम रहेगा।

लोकप्रिय
next