शिव ‘राज’ में शिक्षकों का बुरा हाल, महिला-पुरुष शिक्षकों ने सिर मुंडवाकर जताया विरोध

मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार के खिलाफ राज्य के शिक्षकों का गुस्सा भी अब फूट पड़ा है। शनिवार को बड़ी संख्या में महिला और पुरुष शिक्षकों ने सामूहिक रूप से मुंडन कराकर अपना विरोध दर्ज कराया।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

मध्य प्रदेश की बीजेपी सरकार की नीतियों के खिलाफ अब लोगों का गुस्सा अपने चरम पर है। शिवराज सिंह चौहान की सरकार के खिलाफ राज्य के शिक्षकों का गुस्सा भी अब फूट पड़ा है। अपने हक और अधिकार के लिए पिछले लंबे समय से आंदोलन कर रहे शिक्षकों का विरोध प्रदर्शन अब काफी तेज हो गया है। अपनी मांगों के समर्थन में प्रदर्शन कर रहे शिक्षकों ने 13 जनवरी को अजीबो-गरीब तरीका अपनाकर अपनी नाराजगी जाहिर की। शनिवार को बड़ी तादाद में महिला और पुरुष शिक्षकों ने सामूहिक रूप से मुंडन कराकर अपना विरोध दर्ज कराया। समान काम के लिए समान वेतन की अपनी मांग को लेकर मध्य प्रदेश के हजारों शिक्षक 5 जनवरी से अध्यापक अधिकार यात्रा निकाल रहे हैं। यह यात्रा राज्य के ओंकारेश्वर और दतिया से शुरू होकर भोपाल तक निकाली गई।

इस यात्रा के अंतिम पड़ाव भोपाल के जंबूरी मैदान पहुंचने पर हजारों की संख्या में शिक्षक वहां जमा हुए और बड़ी संख्या में सामूहिक मुंडन कराकर विरोध जताया। मुंडन के बाद आंदोलकारी महिला शिक्षकों ने अपने सिरों पर हल्दी का लेप भी लगाया। मध्य प्रदेश के शिक्षक लंबे समय से समान काम के लिए समान वेतन की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं। इन शिक्षकों की सरकार से मांग है कि उके लिए एक निष्पक्ष वेतन नीति बनाई जाए।

 शिव ‘राज’ में शिक्षकों का बुरा हाल, महिला-पुरुष शिक्षकों ने  सिर मुंडवाकर जताया विरोध

शिक्षकों की मांग के लिए आंदोलन कर रहे आजाद अध्यापक संघ की अध्यक्ष शिल्पी सिवान ने आरोप लगाया कि शिवराज सरकार शिक्षकों की मांगों को लेकर गंभीर नहीं है। उन्होंने कहा कि शिक्षा विभाग में मृत अध्यापकों के परिवार के सदस्यों की अनुकंपा पर नियुक्ति, वेतन त्रुटी, शिक्षकों के प्रमोशन और सातवें वेतनमान का लाभ देने की शिक्षकों की मांगों पर आज तक सरकार ने कोई ठोस पहल नहीं की है। संघ के प्रांतीय महासचिव केशव रघुवंशी का कहना है कि शिक्षा विभाग की कई मांगों को लेकर लंबे समय से शिक्षक आंदोलन कर रहे हैं, लेकिन राज्य सरकार ने मांगों को दरकिनार किया।

इससे पहले शिक्षकों द्वारा निकाले गए 'अध्यापक अधिकार यात्रा' विभिन्न मुख्यालयों से होते हुए शनिवार को भोपाल पहुंची। इस दौरान कई जगहों पर शिक्षकों की इस यात्रा का स्वागत किया गया। अध्यापकों ने कई गाड़ियों और दो पहिया वाहनों में सवार होकर अपनी यात्रा को मुख्य मार्गो से निकालकर सरकार को अपनी मांगों से अवगत कराया। इससे पहले शिक्षक संघ ने 5 दिन पहले सरकार को अल्टीमेटम देते हुए कहा था कि अगर उनकी मांगें नहीं पूरी की गईं तो वे सामूहिक रूप से मुंडन कराएंगे।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;