कोरोना से बेहाल दिल्ली पर अब टिड्डी दल का खतरा, गुरुग्राम से पलवल की तरफ बढ़ा, कभी भी बोल सकता है धावा

हरियाणा के गुरुग्राम और रेवाड़ी में इस वक्त टिड्डी दल का प्रकोप बना हुआ है, जो कभी भी दिल्ली पहुंच सकता है। इस समय टिड्डियों का प्रकोप राजस्थान और मध्यप्रदेश में अधिक है, जबकि छोटे-छोटे दल बिहार के रोहतास और उत्तर प्रदेश के वाराणसी और जौनपुर तक पहुंच चुके हैं।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

आईएएनएस

देश में एक तरफ खरीफ फसलों की बुवाई जोर पकड़ चुकी है, वहीं दूसरी तरफ हरियाली का दुश्मन टिड्डियों का आतंक कम नहीं हो रहा है। शुक्रवार की रात एक टिड्डी दल हरियाणा में पहुंचा और अब वह किसी भी समय देश की राजधानी दिल्ली पर भी धावा बोल सकता है।

वनस्पति संरक्षण, संगरोध और संग्रह निदेशालय में पदस्थापित उपनिदेशक डॉ. के. एल. गुर्जर ने शनिवार को बताया कि टिड्डी दल बीती रात पहली बार हरियाणा पहुंचा है और दिल्ली के आसपास के इलाकों में इसका प्रकोप बना हुआ है। दिल्ली पर धावा बोलने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि इस समय टिड्डी दल पलवल की तरफ बढ़ रहा है और हवा के रुख के अनुसार ये गमन करता है। इसलिए दिल्ली की तरफ भी बढ़ सकता है।

हरियाणा के गुरुग्राम और रेवाड़ी में इस समय टिड्डियों का प्रकोप बना हुआ है। उन्होंने बताया कि टिड्डियों का प्रकोप इस समय राजस्थान और मध्यप्रदेश में अधिक है, जबकि छोटे-छोटे दल बिहार के रोहतास और उत्तर प्रदेश के वाराणसी और जौनपुर तक भी पहुंच चुके हैं।

केंद्रिय कृषि मंत्रालय की एक ताजा रिपोर्ट के अनुसार, 21 जून 2020 तक राजस्थान, पंजाब, गुजरात, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के 84 जिले अब तक टिड्डियों की चपेट में आ चुके हैं, जहां 114,026 हेक्टेयर क्षेत्र में टिड्डी नियंत्रण किया गया है।

लोकप्रिय
next