भारतीय दूतावास पर हंगामे का जवाब! दिल्ली में ब्रिटिश उच्चायोग के बाहर घटाई गई सुरक्षा, पुलिस ने किया इनकार

सूत्रों का दावा है कि सुरक्षा समीक्षा के बाद ब्रिटिश उच्चायोग के बाहर लगे पुलिस बैरिकेड और पिकेट को हटाने का फैसला लिया गया है। सूत्रों ने कहा कि सुरक्षा इंतजाम खतरों के एसेसमेंट पर आधारित होते हैं, जिनकी समीक्षा के बाद वहां से केवल अतिरिक्ट बैरिकेड्स हटाए गए हैं।

फोटोः वीडियोग्रैब
फोटोः वीडियोग्रैब
user

नवजीवन डेस्क

दिल्ली में ब्रिटेन के उच्चायोग के बाहर तैनात सुरक्षा को कम करने की खबर है। वहीं, ब्रिटिश उच्चायुक्त अलेक्जेंडर एलिस के घर के बाहर लगाए गए कई बैरिकेड्स को भी बुधवार हटाया गया है। हालांकि, दिल्ली पुलिस ने इससे इनकार करते हुए कहा है कि ब्रिटिश उच्चायोग की सुरक्षा बरकरार है। इस बीच भारत के इस कदम को बीते दिनों लंदन में भारतीय उच्चायोग के बाहर खालिस्तानी समर्थकों द्वारा हंगामा करने और तिरंगे का अपमान करने की घटना पर पर्याप्त प्रतिक्रिया नहीं देने का जवाब माना जा रहा है।

हालांकि, सूत्रों का दावा है कि सुरक्षा समीक्षा के बाद ब्रिटिश उच्चायोग के बाहर लगे पुलिस बैरिकेड और पिकेट को हटाने का फैसला लिया गया है। सूत्रों ने कहा कि सुरक्षा इंतजाम खतरों के एसेसमेंट पर आधारित होते हैं, जिनकी समीक्षा के बाद वहां से केवल अतिरिक्ट बैरिकेड्स हटाए गए हैं। उच्चायोग के बाहर और उच्चायुक्त के आवास के बाहर पर्याप्त सुरक्षा इंतेजाम हैं।


ब्रिटिश उच्चायोग की सुरक्षा घटाने की खबरों पर दिल्ली पुलिस ने बुधवार को कहा कि उन्होंने केवल ब्रिटिश उच्चायोग के बाहर लगे अतिरिक्त बैरिकेड्स हटाए हैं। उच्चायोग की सुरक्षा पूरी तरह से बरकरार है। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के अनुसार, सुरक्षा पहले की तरह ही है, लेकिन आयोग की ओर जाने वाले रास्ते पर लगाए गए बैरिकेड्स हटा दिए गए हैं, जो आने-जाने में बाधा पैदा करते थे।

गौरतलब है कि इससे पहले रविवार को लंदन में भारतीय उच्चायोग के बाहर खालिस्तान समर्थक कार्यकर्ताओं ने जमकर हंगामा किया था और उच्चायोग पर लगे तिरंगा को नीचे खींचने की कोशिश की थी, जिसके बाद वहां सुरक्षा की पूर्ण अनुपस्थिति पर स्पष्टीकरण की मांग करते हुए भारत सरकार ने दिल्ली में ब्रिटिश उप उच्चायुक्त को तलब किया गया था। भारत में ब्रिटिश उच्चायुक्त एलेक्स एलिस ने इस घटना को अपमानजनक और पूरी तरह से अस्वीकार्य बताया था।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;