TMC सांसद दिनेश त्रिवेदी ने राज्यसभा से दिया इस्तीफा, बोले- मुझे घुटन महसूस हो रही है...

राज्यसभा में बजट पर चर्चा हो रही थी। इसी दौरान टीएमसी सांसद दिनेश त्रिवेदी ने सदन की सदस्यता से इस्तीफे की पेशकश कर दी। उन्होंने बंगाल में लगातार हो रही हिंसा पर दुख जताते करते इस्तीफे की पेशकश की।

फोटो: RSTV
फोटो: RSTV
user

नवजीवन डेस्क

पश्चिम बंगाल में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव से पहले तृणमूल कांग्रेस को एक और झटका लगा है। टीएमसी के राज्यसभा सांसद दिनेश त्रिवेदी ने इस्तीफा दे दिया है। इस्तीफे का ऐलान करते हुए दिनेश त्रिवेदी ने कहा कि जिस तरह से बंगाल में हिंसा हो रही है, मुझे यहां बैठे-बैठे बहुत अजीब लग रहा है। मुझसे यह देखा नहीं जा रहा है।

राज्यसभा में बजट पर चर्चा हो रही थी। इसी दौरान टीएमसी सांसद दिनेश त्रिवेदी ने सदन की सदस्यता से इस्तीफे की पेशकश कर दी। उन्होंने बंगाल में लगातार हो रही हिंसा पर दुख जताते करते इस्तीफे की पेशकश की। उन्होंने कहा कि वह सदन में हैं और कुछ कर नहीं सकते, इस वजह से उन्हें बहुत घुटन महसूस हो रही है। उन्होंने कहा कि मैं सदन की सदस्यता से इस्तीफा दे रहा हूं।


दिनेश त्रिवेदी ने कहा, “हर मनुष्य के जीवन में एक घड़ी आती है जब उसे अपने अंतरआत्मा की आवाज सुननी पड़ती है। मेरे जीवन में ऐसी ही घड़ी आई है। हम सब राजनीति में आते हैं क्योंकि हमारे लिए देश पहले होता है। कुछ दिन पहले ही गुलाम नबी आजादी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बोल रहे थे। एक सत्ता पक्ष और एक विपक्ष का, लेकिन देश की भावना बड़ी थी। जब मैं रेल मंत्री था तब भी ऐसा समय आया था। आज फिर वही घड़ी है।”

दिनेश त्रिवेदी ने आगे कहा, “हम रविंद्रनाथ टैगोर, सुभाष चंद्र बोस और खुदीराम बोस के देश से आते हैं। स्वामी विवेकानंद कहते थे ‘उतिष्ठत, जाग्रत, प्राप्य वरान्निबोधत’ हम पार्टी में हैं तो सीमित हैं। घुटन महसूस हो रही है कि कुछ कर नहीं पा रहे। मुझसे बंगाल की हिंसा देखी नहीं जा रही। मेरी आत्मा की आवाज कह रही है कि अगर यहां बैठे-बैठे अगर आप चुपचाप रहो और कुछ ना कह सको तो यहां त्यागपत्र दो और वहां जाकर काम करो।”


दिनेश त्रिवेदी के इस्तीफे पर टीएमसी की प्रतिक्रिया भी आ गई है। टीएमसी सांसद सुखेंदु एस रॉय ने टीएमसी सांसद दिनेश त्रिवेदी पर राज्यसभा से इस्तीफा देने पर कहा, “तृणमूल का अर्थ है जमीनी स्तर। इससे हमें राज्यसभा में जल्द ही जमीनी स्तर के कार्यकर्ता को भेजने का मौका मिलेगा।”

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia