पूरी दुनिया में फैल चुका है ओमिक्रॉन, कोराना के नए केस में तेजी से होगी वृद्धि, शीर्ष अमेरिकी विशेषज्ञ का दावा

डा. फाउसी ने कहा कि हम उन लोगों को लेकर काफी चिंतित हैं जिन्होंने वैक्सीन नहीं लगवाई है और ऐसे ही लोग कोरोना संक्रमण के लिहाज से अधिक जोखिम में हैं क्योंकि यह विषाणु लोगों को बहुत तेजी से संक्रमित कर रहा है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

अमेरिका के शीर्ष संक्रामक रोग विशेषज्ञ डा. एंथनी फाउसी ने कहा है कि पूरे विश्व में कोराना का नया वेरिएंट फैल चुका है और इसकी वजह से कोरोना के नए मामलों में तेजी से बढ़ोत्तरी होगी। बेहद तेजी से फैलने वाले कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन ने डेल्टा वैरिएंट को भी पीछे छोड़ दिया है और अमेरिका में जितने भी मामले सामने आ रहे हैं उनमें एक तिहाई इसी के हैं।

जान हापिकिंस विश्वद्यिालय के मुताबिक सोमवार सुबह तक पूरे विश्व में अमेरिका कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित है और यहां 52,259,716 लोग कोरोना से प्रभावित हुए हैं और करीब 816,597 लोगों की मौत हुई है। सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के मुताबिक अमेरिका में पिछले गुरूवार तक कोरोना के कुल पांच करोड़ से अधिक मामले सामने आए थे और मौतों की संख्या में अमेरिका सबसे शीर्ष पायदान पर हैं।


चैनल एबीसी के दिस वीक रविवारीय कार्यक्रम के मुताबिक प्रत्येक दिन यह मामले बढ़ते ही जा रहे हैं और पिछले हफ्ते का औसत लगभग 150,000 था और इसके और बढ़ने की आशंका है। अध्ययनों में पता चला है कि यह वेरिएंट डेल्टा की तुलना में कम घातक है और इसी बात को लेकर उन्होंने चेताया है कि लोगों को इसे हल्के में नहीं लेना चाहिए क्योंकि जब आपके पास इतनी अधिक संख्या में संक्रमण है तो यह यह अन्य चीजों के लिहाज से गंभीर हो सकता है।

डा. फाउसी ने कहा कि हम उन लोगों को लेकर काफी चिंतित हैं जिन्होंने वैक्सीन नहीं लगवाई है और ऐसे ही लोग कोरोना संक्रमण के लिहाज से अधिक जोखिम में हैं क्योंकि यह विषाणु लोगों को बहुत तेजी से संक्रमित कर रहा है। उन्होंने इसे समझाते हुए कहा कि अगर आपके पास कम गंभीरता वाले अधिक लोग हैं तो यह कम गंभीरता के होने वाले सकारात्मक प्रभावों को कम कर सकता है क्योंकि इतने अधिक लोगों को भी कोई न कोई चिकित्सा सुविधा देनी ही होगी।


सीपीसी आंकड़ों के मुताबिक अमेरिका की केवल 61.7 प्रतिशत आबादी ही कोराना टीका ले चुकी है। पिछले हफ्ते अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने अगले माह जनवरी से लोगों को उनके घरों पर निशुल्क रैपिड टेस्ट किट दिए जाने की घोषणा की थी। जो भी अमेरिकी नागरिक इसके लिए आवेदन करेगा उसे ये निशुल्क मुहैया करा दी जाएंगी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia