जर्मनी की शीर्ष पत्रिका ने ट्रंप को घोषित किया 'लूज़र ऑफ द ईयर', बिडेन-हैरिस को दिया शीर्ष सम्मान

जर्मनी की शीर्ष पत्रिका ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप को ‘लूज़र ऑफ द ईयर’ का खिताब दिया है। वहीं पत्रिका ने निर्वाचित राष्ट्रपति जो बिडेन और उप राष्ट्रपति कमला हैरिस को ‘पर्सन ऑफ द ईयर’ घोषित किया है।

फोटो : Getty Images
फोटो : Getty Images
user

नवजीवन डेस्क

जर्मनी की शीर्ष पत्रिका ‘देर स्पीगल’ जिसका अंग्रेजी में अर्थ होता है द मिरर, ने इस साल के अपने वर्षांत अंक में अमेरिका के वर्तमान राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप को ‘द फेलिए दिस यारस’ यानी लूज़र ऑफ द ईयर का खिताब दिया है। पत्रिका के वाशिंगटन ब्यूरो चीफ रोलां नेलेस और बर्लिन में संवाददाता राल्फ न्यूकिर्क ने ट्रंप के बारे में लिखा है कि वे एक ऐसे, “व्यक्ति हैं जो कभी भी किसी आम भलाई के बारे में नहीं सोचते हैं, वे सिर्फ अपने ही बारे में सोचते हैं...”

पत्रिका ने अपने लेख में लिखा है कि, “ट्रंप प्रशासन में कुछ भी सामान्य नहीं रहा। उन्होंने न सिर्फ अपनी हार को स्वीकारने से इनकार किया बल्कि एक बड़े चुनाव घोटाले का आरोप भी लगाया, जबकि इस बात का कोई सबूत नहीं है।” पत्रिका आगे लिखती है कि, “इसमें कुछ भी हैरान करने वाला नहीं था क्योंकि ट्रंप का राष्ट्रपति काल वैसे ही समाप्त हो रहा है, जैसे कि यह शुरु हुआ था। न उनके राष्ट्रपति बनने में सौम्यता थी और न ही जाने में गरिमा...”

गौरतलब है कि इस साल नवंबर में हुए चुनाव में सभी समाचार प्रतिष्ठानों ने जो बिडेन को विजेता घोषित किया है, लेकिन तब से लगातार ट्रंप हार मानने को तैयार नहीं है, और बार-बार बिना किसी सबूत के दावे कर रहे हैं कि चुनावों में धांधली हुई है। पत्रिका कहती है कि इस तरह ट्रंप लोकतंत्र को हड़पने की कोशिश कर रहे हैं।

चुनाव के बाद से ही ट्रंप की लीगल टीम ने कई राज्यों में चुनावों को चुनौती देते हुए मुकदमे किए है। इनमें से कई मुकदमों को अदालतों ने सबूतों के अभाव में खारिज भी कर दिया है।

जर्मनी की शीर्ष पत्रिका ने ट्रंप को घोषित किया 'लूज़र ऑफ द ईयर', बिडेन-हैरिस को दिया शीर्ष सम्मान

जर्मनी की पत्रिका का लेख ऐसे समय में आया है जब टाइम मैगजीन ने भी जो बिडेन और कमला हैरिस को शीर्ष पर्सन ऑफ द ईयर घोषित किया है। टाइम ने अपने लेख में कहा है कि बिडेन और हैरिस के सामने कोरोना महामारी से निपटने का भारी भरकम काम है, साथ ही पत्रिका ने कमला हैरिस की जीत को ऐतिहासिक करार दिया है।

ध्यान रहे कि जर्मनी के लोग लगातार ट्रंप की खिल्ली उड़ाते रहे हैं और उनकी नजरों में ट्रंप भरोसे लायक नहीं है। पीयू रिसर्च सेंटर के एक सर्वे में साफ सामने आया था कि हर चार में से तीन जर्मन नागरिकों को ट्रंप पर भरोसा नहीं है। ऐसी ही स्थिति स्वीडन, फ्रांस, स्पेन और नीदरलैंड में भी सामने आई थी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia