योगी सरकार के अयोध्या मास्टर प्लान के विरोध में आए व्यापारी, बड़े पैमाने पर कारोबार तबाह होने का जताया अंदेशा

व्यापार अधिकार मंच के अध्यक्ष रमेश जायसवाल ने कहा कि प्रस्तावित मास्टर प्लान को लागू करने से बड़े पैमाने पर दुकानों और अन्य प्रतिष्ठानों को तोड़ा जाएगा। यदि प्लान को मौजूदा रूप में लागू किया गया तो बड़े पैमाने पर कारोबार का नुकसान होगा।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश की धार्मिक नगरी अयोध्या के व्यापारियों में इस समय नए मास्टर प्लान के खिलाफ भारी रोष है। उनका कहना है कि अगर इसे मौजूदा स्वरूप में लागू किया गया तो इससे अनेक दुकानें और वाणिज्यिक प्रतिष्ठानों को नुकसान होगा। मास्टर प्लान का खाका अयोध्या विकास प्राधिकरण (एडीए) के कार्यालय में दर्शाया गया है, जिसके खिलाफ व्यापारियों ने प्राधिकरण के समक्ष अपना विरोध दर्ज कराया है। कारोबारियों का आरोप है कि प्रस्तावित मास्टर प्लान को लागू करने से बड़े पैमाने पर दुकानों और अन्य व्यावसायिक प्रतिष्ठानों को तोड़ा जाएगा।

मास्टर प्लान में शहर के कई हिस्सों की सड़कों को चौड़ा किए जाने के लिए परियोजना के तौर पर चिन्हित किया गया है। व्यापार अधिकार मंच के अध्यक्ष रमेश जायसवाल ने इस पर कहा कि यदि मास्टर प्लान को इसके मौजूदा रूप में लागू किया गया तो बड़ी संख्या में दुकानें और अन्य व्यावसायिक प्रतिष्ठानों को तोड़ा जाएगा। उन्होंने कहा कि व्यापारियों ने उपाध्यक्ष एडीए, विशाल सिंह के समक्ष अपना विरोध दर्ज कराया है। प्राधिकरण ने व्यापारियों से उनकी आपत्तियों को लिखित रूप में देने को कहा है ताकि उन पर चर्चा कर इस दिशा में कोई स्वीकार्य समाधान निकाला जा सके।


प्रस्तावित विकास प्लान में अयोध्या धाम (पुराना अयोध्या शहर) में सड़क के दो हिस्सों को चौड़ा किया जाना है, जिसमें हनुमान गढ़ी मंदिर की ओर जाने वाला मार्ग भी शामिल है। नया घाट से उदय क्रॉसिंग तक सड़क का एक और विस्तार किया जाना है। यह खंड लगभग 4.6 किलोमीटर लंबा है और डिवाइडर के दोनों ओर पूरी सड़क 24 फीट और 12 फीट रखे जाने की योजना है। सड़क के इस हिस्से में बड़ी संख्या में व्यावसायिक प्रतिष्ठान आते हैं। व्यापारी इस बात की मांग कर रहे है कि प्रस्तावित विस्तार 24 फुट से घटाकर 20 फुट तक ही रखा जाए।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अनुसार, अयोध्या में बड़े पैमाने पर सौंदर्यीकरण और नवीनीकरण योजना का प्रस्ताव तैयार किया गया है, जो इसे 'विश्व का सबसे खूबसूरत शहर' बनाएगा। यहां अभी राम मंदिर निर्माणाधीन है और इस पवित्र शहर को नया रूप देने के लिए यहां का जीर्णोद्धार किया जा रहा है। राज्य सरकार को यहां मंदिर का निर्माण पूरा होने पर दुनिया भर से भक्तों और पर्यटकों की भारी भीड़ आने की उम्मीद है जिससे यहां पर्यटन और अन्य गतिविधियों को बढ़ावा मिल सकेगा।

गौरतलब है कि छह नवंबर 2018 को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दीपोत्सव महोत्सव के दौरान फैजाबाद जिले का नाम बदलकर अयोध्या रखा था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia