माउंट एवरेस्ट पर लगा ‘ट्रैफिक जाम’, मरने वालों की संख्या बढ़कर 11 हुई, भारतीय पर्वतारोही भी शामिल

माउंट एवरेस्ट फतह करने की होड़ ने वहां ट्रैफिक जाम की समस्या बढ़ा दी है, जो लोगों के लिए जानलेवा साबित हो रही है। सोमवार को माउंट एवरेस्ट की चोटी पर पहुंचने के बाद एक अमेरिकी पर्वतारोही की मौत हो गई।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

दुनिया की सबसे ऊंची पर्वत चोटी माउंट एवेस्ट से लौट रहे एक और पर्वतारोही की मौत हो गई है, जिसके बाद 2019 में मरने वाले पर्वतारोहियों की संख्या 11 हो गई है। नेपाल सरकार के एक अधिकारी ने मंगलवार को इसकी पुष्टि की। इससे पहले गुरुवार को दो भारतीय पर्वतारोही की मौत हो चुकी है। पर्वतारोहियों और विशेषज्ञों का मानना है कि एवरेस्ट पर बढ़ती भीड़ के कारण इतने लोगों को जान गंवानी पड़ी है।

माउंट एवरेस्ट पर लगा ‘ट्रैफिक जाम’, मरने वालों की संख्या बढ़कर 11 हुई, भारतीय पर्वतारोही भी शामिल

नेपाल के पर्यटन विभाग की निदेशक मीरा आचार्य ने बताया कि अमेरिकी वकील क्रिस्टोफर जॉन कुलिश की एवरेस्ट के नेपाल की ओर वाले स्थान पर पहाड़ की चोटी पर पहुंचने के बाद सोमवार को मौत हो गई। उन्होंने कहा कि उतरते समय वे सोमवार शाम सुरक्षित रूप से दक्षिणी कोल (25,918 फीट) पर पहुंच गए थे, इसके बाद अचानक उनकी मौत हो गई। कोलोराडो के कुलिश के परिजनों ने कहा कि खबर सुनकर वे दुखी हैं।

माउंट एवरेस्ट पर लगा ‘ट्रैफिक जाम’, मरने वालों की संख्या बढ़कर 11 हुई, भारतीय पर्वतारोही भी शामिल

सोमवार को ही एक ऑस्ट्रेलियाई परिवार ने भी अपने एक रिश्तेदार की मौत की पुष्टि की थी। अर्न्‍स्ट लैंडग्राफ की एवरेस्ट की चढ़ाई का अपना सपना पूरा करने के कुछ घंटों बाद ही 23 मई को मौत हो गई थी। पर्वतारोहियों का कहना है कि खराब मौसम, कम अनुभव और पर्वतारोहण के औद्योगिकीकरण के कारण ये घटनाएं बढ़ गई हैं। साल 1922 के बाद से माउंट एवरेस्ट पर लगभग 200 पर्वतारोहियों की मौत हो चुकी है।

माउंट एवरेस्ट पर लगा ‘ट्रैफिक जाम’, मरने वालों की संख्या बढ़कर 11 हुई, भारतीय पर्वतारोही भी शामिल

नेपाल प्रशासन ने एवरेस्ट से 11 टन कचरा साफ किया

दूसरी ओर नेपाल सरकार ने सोमवार को माउंट एवरेस्ट पर सफाई अभियान पूरा कर लिया और कहा कि उसने लगभग 11 टन कचरा जमा किया है, जो दशकों से चोटी पर पड़े हुए थे। यह सफाई अभियान मध्य अप्रैल में शुरू किया गया था और इसमें ऊंची चढ़ाई में माहिर 12 शेरपाओं की एक विशिष्ट टीम शामिल थी। इस टीम ने एक महीने से अधिक समय में पूरे कचरे को जमा किया।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

Published: 28 May 2019, 1:11 PM
लोकप्रिय