पश्चिम बंगाल चुनाव: 'स्टारडम' से तृणमूल को मिला फायदा, 'ग्लैमर' से बीजेपी को हुआ नुकसान

बंगाल चुनाव में स्टारडम और ग्लैमर का भी मुकाबला था। तृणमूल कांग्रेस और बीजेपी दोनों ने सितारों के मैदान में उतारा था। लेकिन नतीजे और रुझानों से साफ है कि स्टारडम का फायदा टीएमसी को तो मिला लेकिन बीजेपी को ग्लैमर से नुकसान हुआ है।

फोटो : आईएएनएस
फोटो : आईएएनएस
user

आईएएनएस

पश्चिम बंगाल में हुए स्टारडम विधानसभा चुनाव में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस और प्रमुख प्रतिद्वंद्वी बीजेपी ने एक दर्जन से अधिक अभिनेताओं और अभिनेत्रियों को उम्मीदवार के रूप में मैदान में उतारा। मगर जो नतीजे आए उनसे साफ हो गया है कि तृणमूल को स्टारडम का लाभ सफलतापूर्वक मिला जबकि जबकि भगवा पार्टी ग्लैमर को भुनाने में विफल रही है। टॉलीगंज को कई लोगों ने तृणमूल के लिए सबसे मुश्किल सीटों में से एक माना था, जहां बीजेपी ने अनुभवी प्रचारक अरूप बिस्वास के खिलाफ गायक से राजनेता बने सांसद बाबुल सुप्रियो को मैदान में उतारा था। लेकिन वे चुनाव हार गए। वास्तव में, सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस द्वारा बनाए गए सेल्यूलाइड के सभी प्रमुख चरित्र अपने-अपने निर्वाचन क्षेत्रों में बढ़त बनाए रहे।

बैरकपुर उत्तर 24 परगना जिले का एक औद्योगिक शहर है, जिसे बीजेपी के मजबूत नेता अर्जुन सिंह का गढ़ माना जाता है। तृणमूल के उम्मीदवार और लोकप्रिय निर्देशक राज चक्रवर्ती लगभग 4,000 मतों के अंतर से बीजेपी के चंद्रमणि शुक्ला से आगे रहे। दो अन्य लोकप्रिय अभिनेत्रियों, मिदनापुर से जून मलैया और बांकुरा से सायंतिका बनर्जी ने बीजेपी के अपने प्रतिद्वंदी उम्मीदवारों के खिलाफ अपनी बढ़त बनाए रखी।

अभिनेत्री सयानी घोष, जो आसनसोल दक्षिण निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ रही हैं, जहां से बाबुल सुप्रियो ने 2019 के लोकसभा चुनावों में जीत हासिल की थी, वह बीजेपी प्रत्याशी व बीजेपी मोहिला मोर्चा की अध्यक्ष अगिनमित्रा पॉल से मामूली अंतर से आगे हैं। इसी तरह, लोकप्रिय अभिनेता और तृणमूल के उम्मीदवार कंचन मुलिक हुगली जिले के उत्तरपारा विधानसभा क्षेत्र में आगे चल रहे।


न केवल बाबुल सुप्रियो, बल्कि अन्य बीजेपी स्टार उम्मीदवारों ने भी राज्यभर के विभिन्न निर्वाचन क्षेत्रों में अनुगामी रुझान दिखाना शुरू कर दिया है। लॉकेट चटर्जी हुगली की मौजूदा विधायक जो अब चुचुरा से चुनाव लड़ रही हैं, तृणमूल के असित मजुमदार से 3,000 से अधिक वोटों के अंतर से पीछे चल रही हैं। इसी तरह, रुद्रनील घोष, जो हाल ही में दल बदलकर बीजेपी में शामिल हो गए थे, तृणमूल के दिग्गज और राज्यमंत्री शोभनदेव चट्टोपाध्याय से पीछे चल रहे हैं।

बीजेपी की पायल सरकार, जो बेहाला पूर्व से चुनाव लड़ रही हैं, अपनी प्रतिद्वंद्वी पूर्व मेयर शोभन चटर्जी की पत्नी तृणमूल रत्ना चटर्जी से पीछे चल रही हैं। बीजेपी के टिकट पर बेहाला पश्चिम सीट से चुनाव लड़ रहीं एक अन्य लोकप्रिय अभिनेत्री श्राबंती चटर्जी तृणमूल के कद्दावर नेता और राज्य के शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी से पीछे हैं। इसी तरह, अभिनेता से नेता बने और बीजेपी के उम्मीदवार यश दासगुप्ता हुगली जिले के चंदिताला विधानसभा क्षेत्र में तृणमूल की स्वाति खंडोकर से पीछे हैं।

एक वरिष्ठ तृणमूल नेता ने कहा, "लोगों ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के विकास कार्यक्रमों के पक्ष में अपना वोट दिया है। यहां उम्मीदवार मायने नहीं रखता, बल्कि पार्टी मायने रखती है और लोगों का मानना है कि तृणमूल कांग्रेस लोगों के लिए काम करेगी। इसलिए हमारे सभी उम्मीदवार विजयी हो रहे हैं।"

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia