त्रिपुरा के BJP विधायक ने सिर मुंडाकर पार्टी छोड़ने का किया ऐलान, राज्य में अराजकता का किया दावा

इससे पहले उत्तरी त्रिपुरा में सूरमा से विधायक आशीष दास ने कहा था कि एक बार मोदी के संदेशों ने देश भर के लोगों के मन में हलचल मचा दी थी। मोदी ने कभी कहा था कि 'न खाऊंगा, न खाने दूंगा' लेकिन अब यह देश में एक लोकप्रिय जुमला (मजाक) बन गया है।

फोटोः ANI
फोटोः ANI
user

नवजीवन डेस्क

त्रिपुरा में चुनाव से पहले बीजेपी को बड़ा झटका लगा है। बीजेपी के विधायक आशीष दास ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की प्रशंसा और पीएम मोदी की आलोचना करने के अगले दिन मंगलवार को बीजेपी छोड़ने का ऐलान कर दिया है। इसके साथ ही उन्होंने तृणमूल कांग्रेस में शामिल होने के संकेत भी दिए।

आशीष दास ने मंगलवार को कोलकाता के कालीघाट मंदिर में पछतावे के तौर पर अपना सिर मुंडवाकर और यज्ञ करने के बाद बीजेपी छोड़ने का ऐलान किया। उन्होंने दावा किया कि बीजेपी शासित त्रिपुरा में राजनीतिक अराजकता व्याप्त है, जहां लोग राज्य सरकार के कामकाज से नाखुश हैं। उन्होंने कहा कि आपको जल्द ही सब कुछ पता चल जाएगा।

इससे पहले आशीष दास के बयानों पर पलटवार करने की कोशिश करते हुए त्रिपुरा बीजेपी प्रमुख माणिक साहा ने कहा कि वह सब कुछ देख रहे हैं और समय आने पर उचित कदम उठाए जाएंगे। साहा ने अगरतला में कहा कि दास की गतिविधियां पिछले कुछ समय से सामान्य नहीं रही हैं। पार्टी उनके द्वारा उठाए गए कदमों की जांच के बाद उनके खिलाफ कार्रवाई करेगी।"


इससे पहले उत्तरी त्रिपुरा में सूरमा विधानसभा सीट के विधायक दास ने सोमवार को कोलकाता में मीडिया से बात करते हुए देश की अधिकांश सरकारी संपत्तियों को निजी कंपनियों को बेचने' के लिए प्रधानमंत्री की आलोचना की थी। उन्होंने कहा था, "एक बार मोदी के संदेशों ने देश भर के लोगों के मन में हलचल मचा दी थी। मोदी ने कभी कहा था कि 'न खाऊंगा, न खाने दूंगा' लेकिन अब यह देश में एक लोकप्रिय जुमला (मजाक) बन गया है।" उन्होंने यह भी कहा था कि केंद्र और राज्यों में बीजेपी 'निरंकुश शैली' में सरकारें चला रही है।

वहीं भवानीपुर उपचुनाव में रिकॉर्ड अंतर से जीत हासिल करने के लिए ममता बनर्जी की प्रशंसा करते हुए आशीष दास ने कहा था कि कई लोग और संगठन ममता बनर्जी को प्रधानमंत्री के रूप में देखना चाहते हैं और इस पद पर उनका उत्थान बहुत महत्वपूर्ण होगा, क्योंकि वह एक बंगाली हैं।

बता दें कि आशीष दास और चार अन्य बीजेपी विधायकों- सुदीप रॉय बर्मन, आशीष कुमार साहा, दीबा चंद्र हरंगखॉल और बरबा मोहन त्रिपुरा ने हाल ही में अगरतला में एक बड़ी सभा की थी, जिसमें कई स्थानीय बीजेपी नेता और कार्यकर्ता शामिल हुए थे। संगठन में विद्रोह को रोकने और शासन को सही करने के लिए बीजेपी के पूर्वोत्तर क्षेत्रीय संगठन सचिव अजय जामवाल के नेतृत्व में केंद्रीय पार्टी के कई नेता राज्य में डेरा डाले हुए हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia