मध्य प्रदेश के अशोकनगर में खाद नहीं मिलने से परेशान किसान ने की खुदकुशी, कई जिले में खाद की कमी से अन्नदाता परेशान

बताया जा रहा है कि जिले में कई दिनों से खाद की किल्लत है। खाद की कमी पर सरकार लंबे समय से दलीलें देती आ रही है। वहीं, अधिकारियों का कहना है कि खाद की व्यवस्था की जा रही है। प्रदेश के ज्यादातर सहकारी संस्थाओं में खाद नहीं है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

मध्य प्रदेश के अशोकनगर जिले के ईशागढ थाना क्षेत्र के पिपरोल गांव में खाद नहीं मिलने से एक किसान ने खुदकुशी कर ली है। खुदकुशी करने वाले किसान का नाम घनपाल यादव बताया जा रहा है। खाद नहीं मिलने से किसान काफी दिनों से फरेशान था। परिजनों का आरोप है कि 44 साल के किसान धनपाल यादव ने खाद नहीं मिलने से परेशान होकर सल्फास की गोली खा ली। इसके बाद परिजन किसान को लेकर ईसागढ़ अस्पताल पहुंचे। जहां से किसान को डॉक्टरों ने जिला अस्पताल रेफर कर दिया। जिला अस्पताल पहुंचने पर किसान को डॉक्टरों मृत घोषित कर दिया। मृतक किसान के परिजनों ने बताया कि खाद न मिलने से धनपाल ने जहर खा लिया, जिसके चलते उनकी मौत हो गई।

बताया जा रहा है कि जिले में कई दिनों से खाद की किल्लत है। खाद की कमी पर सरकार लंबे समय से दलीलें देती आ रही है। वहीं, अधिकारियों का कहना है कि खाद की व्यवस्था की जा रही है। प्रदेश के ज्यादातर सहकारी संस्थाओं में खाद नहीं है, वह भी तब जब रबी में गेहूं, चना, मसूर, सरसों की बुवाई की जानी है। मंगलवार को खाद की मांग को लेकर किसानों ने सागर जिले के बीना में ट्रेन रोक दी थी, बंडा में कानपुर हाईवे जाम कर जमकर हंगामा मचा। बताया जा रहा है कि प्रदेश की 3400 सहकारी संस्थाओं में खाद ना के बराबर है। बताया जा रहा है कि इस महीने केंद्र से 12 रैक यूरिया, 5 रैक डीएपी और 10 रैक एनपीके मिलना हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia