नोटबंदी के 2 साल: पीएम मोदी और अमित शाह को ट्विटर पर लोगों ने बताया ‘जुमला ब्रदर्स’ 

पीएम मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह 

नोटबंदी के दो साल पूरे होने पर लोगों ने पीएम मोदी और अमित शाह की सोशल मीडिया पर जमकर खिंचाई की। एक यूजर ने लिखा कि अमित शाह, पीएम मोदी से कह रहे हैं कि मोटा भाई नोटबंदी के समय आपने 50 दिन मांगे थे, अब 2 साल हो गये। जनता चौराहे पर बुला रही है।

दो साल पहले पीएम मोदी ने 8 नवंबर को रात 8 बजे देश को संबोधित करते हुए 500 और 1000 के नोट बंद करने का ऐलान किया था। नोटबंदी की यह घोषणा उसी दिन आधी रात से लागू हो गई थी। इससे कई दिनों तक देश में अफरा-तफरी का माहौल रहा और बैंकों के बाहर लंबी कतारें लगी रहीं। इस तुगलकी फरमान के लिए तीन कारण दिए गए थे - इससे काले धन पर रोक लगेगी, जाली मुद्रा व्यवस्था से बाहर हो जाएगी और आतंकवाद को वित्तीय सहायता मिलनी बंद हो जाएगी। लेकिन दो साल बाद इनमें से कोई लक्ष्य पूरा नहीं हो पाया। आज नोटबंदी के दो साल पूरे होने पर सोशल मीडिया पर तरह-तरह के व्यंग्य और फोटो वायरल हो रहे हैं। हिस्ट्री ऑफ इंडिया नाम के ट्विटर हैंडल ने पीएम मोदी और अमित शाह की फोटो को ट्वीट कर लोगों से कहा है कि कैप्शन प्रतियोगिता में आप अपना बेहतरीन कैप्शन दें।

इस फोटो के कैप्शन के लिए यूजर्स ने एक से बढ़कर एक मजेदार कमेंट किए हैं। एक यूजर ने लिखा है, “पीएम मोदी, अमित शाह से कह रहे हैं कि मेरे कुर्ते की रंग की वजह से तुम मुझे 200 का नोट और अपने को 2000 का नोट मत समझना।”

एक यूजर ने लिखा है, “बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह कह रहे हैं कि मोटा भाई नोटबंदी के समय आपने 50 दिन मांगे थे, अब 2 साल हो गये हैं जनता चौराहे पर बुला रही है।”

नोटबंदी को फ्लॉप बताते हुए एक यूजर ने लिखा है, “पीएम मोदी से अमित शाह कह रहे हैं कि केरल के लोग पढ़े लिखे हैं और सबरीमाला का प्लान भी फ्लॉप हो गया है।”

एक यूजर ने पीएम मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पर तंज कसते हुए दोनों को जुमला ब्रदर्स बताया है।

एक यूजर ने लिखा है कि अमित शाह से पीएम मोदी पूछ रहे हैं कि अब किसका एनकाउंटर का प्लान बना रहे हो। एक यूजर ने लिखा है कि पीएम मोदी से अमित शाह कह रहे है कि कर्नाटक उपचुनाव में बीजेपी की हार के लिए माफी चाहता हूं। तो पीएम मोदी जी कह रहे हैं कि मध्य प्रदेश, राजस्थान का कुछ करो, ऐसे चलते हम 2019 में जीत नहीं पाएंगे।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

सबसे लोकप्रिय

अखबार सब्सक्राइब करें