उदयपुर चिंतन शिविर: राहुल गांधी समेत 75 कांग्रेस नेता आज रात ट्रेन से रवाना होंगे, पार्टी का 'नवजीवन' है मुख्य एजेंडा

कांग्रेस पार्टी के नवजीवन और मौजूदा राजनीतिक, चुनावी और सामाजिक चुनौतियों का हल निकालने के लिए पार्टी का चिंतन शिविर कल से उदयपुर में शुरु हो रहा है। शिविर में हिस्सा लेने के लिए राहुल गांधी समेत पार्टी दर्जनों नेता आज रात ट्रेन से रवाना होंगे।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस का तीन दिवसीय चिंतन शिविर कल से राजस्थान के झीलों के शहर उदयपुर में शुरू होने वाला है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने 5 राज्यों के विधानसभा चुनावों के बाद ऐलान किया था कि जल्द ही पार्टी चिंतन शिविर का आयोजन करेगी। 13 से 15 मई तक होने वाले इस ‘नवसंकल्प चिंतन शिविर’ का फोकस पार्टी की संगठनात्मक चुनौतियों को दुरुस्त कर मजबूती देना और 2024 के लोकसभा चुनावों के लिए पार्टी को तैयार करना है।

सोनिया गांधी के भाषण से शुरु होगा शिविर

जानकारी के मुताबिक शिविर में हिस्सा लेने के लिए कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी समेत करीब 75 नेता ट्रेन द्वारा आज रात उदयपुर के लिए रवाना होंगे। चिंतन शिविर 13 मई शुक्रवार दोपहर में शुरु होगा। शुरुआत में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का उद्घाटन भाषण होगा। इसके बाद पार्टी द्वारा तय किए गए 6 अहम मुद्दों पर गहन मंथन किया जाएगा। इन मुद्दों में राजनीतिक, संगठनात्मक, आर्थिक, सामाजिक न्याय और कल्याण, कृषि और किसान और युवाओं से जुड़े मुद्दे होंगे।

15 मई को सामने आएगा 'उदयपुर घोषणापत्र'

तीनों दिन इन सभी मुद्दों पर गहन चर्चा के बाद प्रस्ताव तैयार कर पारित किए जाएंगे। आखिरी दिन यानी 15 मई को राहुल गांधी शिविर को संबोधित करेंगे और उसी दिन कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक होगी जिसमें ‘उदयपुर नवसंकल्प चिंतन शिविर’ के घोषणापत्र को अंतिम रूप दिया जाएगा।

इस शिविर में पार्टी के सांसदों, विधायकों, विधान परिषद सदस्यों, प्रदेश कांग्रेस कमेटियों के पदाधिकारियों और करीब 50 अन्य विशेष आमंत्रित लोगों समेत करीब 430 लोग हिस्सा लेंगे।

शिविर के दौरान पार्टी नेताओं का समूह कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की अगुवाई में पार्टी संगठन को मजबूती देने, संगठन के बुनियादी ढांचे में बदलाव का ब्लू प्रिंट तैयार करने, उदयपुर घोषणापत्र का खाका तैयार करने और निर्धारित समय सीमा में उसे लागू करने के साथ ही 2024 के लोकसभा चुनावों की तैयारियां शुरु करने की रणनीति पर गहन विचार-विमर्श करेगा। इस शिविर के दौरान सिर्फ औपचारिकता भर न होकर पार्टी संगठन में अर्थपूर्ण बदलाव लाने पर जोर दिया जाएगा और एक्शन प्लान तैयार किया जाएगा।


महज औपचारिकता नहीं, चुनौतियों से निपटने को होंगे ठोस और कड़े फैसले

ध्यान दिला दें कि चिंतन शिविर से पहले दिल्ली में हुई कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने स्पष्ट कहा है कि, “चिंतन शिविर सिर्फ एक औपचारिकता नहीं होगा। इस अवसर का इस्तेमाल मौजूदा असाधारण संकट पर विचार करने के लिए किया जाएगा।” उन्होंने यह भी कहा था कि चिंतन शिविर में मंथन के बाद हम ऐसी उन सभी चुनौतियों का हल निकालेंगे जो वैचारिक, चुनावी और संगठन के प्रबंध से जुड़ी हैं।

कार्यसमिति की बैठक के बाद पार्टी नेता जयराम रमेश ने कहा था कि उदयपुर चिंतन शिविर पार्टी का चुनावी घोषणा पत्र बनाने के लिए नहीं बल्कि पार्टी को मजबूती देने और मौजूदा राजनीतिक, आर्थिक और सामाजिक चुनौतियों का हल निकालने के लिए आयोजित किया जा रहा है।

राजनीतिक और संगठन समेत 6 अहम कमेटियां

शिविर में मंथन और चिंतन का एजेंडा तय करने के लिए पार्टी ने 6 कमेटियां बनाई हैं। इनमें राजनीतिक, सामाजिक न्याय और सशक्तिकरण, आर्थिक, संगठन, कृषि एवं किसान और युवा सशक्तिकरण विषय शामिल हैं। राजनातिक पैनल के संयोजक मल्लिकार्जुन खड़गे हैं और इस पैनल में गुलाम नबी आजाद, अशोक चव्हाण, एन उत्तम कुमार रेड्डी, शशि थरूर, गोरव गोगोई, पवन खेड़ा, रागिनी नायक और एस एस उलाका शामिल हैं।

वहीं सामाजिक न्याय और सशक्तिकरण के पैनल का संयोजक सलमान खुर्शीद को बनाया गया है। इस पैनल में मीरा कुमार, दिग्विजय सिंह, कुमारी सैलजा, सुखजिंदर सिंह रंधावा, नबाम तुकी, नारानभाई रातवा, एंटो एंटनी और के राजू शामिल हैं।

आर्थिक पैनल के संयोजक पी चिदंबरम हैं। इस पैनल में सिद्धारमैया, आनंद शर्मा, सचिन पायलट, मनीष तिवारी, राजीव गौड़ा, परिणिति शिंदे, गौरव बल्लभ और सुप्रिया श्रीनेत शामिल हैं।


संगठन के लिए बने पैनल के संयोजक मुकुल वासनिक हैं। इसमें अजय माकन, तारिक अनवर, रणदीप सिंह सुरजेवाला, आर चेन्निथला, अधीर रंजन चौधरी, नेट्टा डिसूजा और मीनाक्षी नटराजन शामिल हैं।

किसान और कृषि क्षेत्र के लिए बने पैनल की अगुवाई भूपिंदर सिंह हुड्डा की अगुवाई में बनाई गई है। इसमें शक्ति सिंह गोहिल, टी एस सिंहदेव, नाना पटोले, प्रताप सिंह बाजवा, अरुण यादव, अखिलेश प्रसाद सिंह, गीता कोरा और अजय कुमार लल्लू शामिल हैं।

युवा सशक्तिकरण पैनल का जिम्मा अमरिंदर सिंह वारिंग को सौंपा गया है। इस पैनल में बी वी श्रीनिवास, नीरज कुंदन, कृष्णा बी गौरा, कृष्णा अल्लावरू, अलका लांबा, रोजी एम जॉन, अभिषेक दत्त, करिश्मा ठाकुर और अंगकिता दत्ता शामिल हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia