उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र सरकार को दी चुनौती- बीएमसी चुनाव EVM से नहीं, बैलेट पेपर से कराएं

उद्धव ठाकरे ने कहा कि हाल ही में पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में से तीन में बीजेपी को भारी सफलता मिली है। लेकिन लेकिन मेरी उन्हें चुनौती है कि आगामी बीएमसी चुनाव ईवीएम की बजाय मतपत्र से कराएं।

उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र सरकार को बीएमसी चुनाव बैलेट पेपर से कराने की चुनौती दी
उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र सरकार को बीएमसी चुनाव बैलेट पेपर से कराने की चुनौती दी
user

नवजीवन डेस्क

शिवसेना-यूबीटी के अध्यक्ष और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मंगलवार को राज्य की बीजेपी-शिवसेना सरकार को आगामी बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) चुनाव ईवीएम के बजाय मतपत्र से कराने की चुनौती दी। ठाकरे ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि हाल ही में पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में से तीन में बीजेपी को सफलता मिली है। लेकिन हिम्मत है तो बीएमसी चुनाव ईवीएम के बजाय मतपत्र से कराएं।

उन्होंने चुनौती देते हुए कहा, "बीजेपी को हाल ही में तीन राज्यों (मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़) में भारी जीत मिली है। लेकिन मेरी उन्हें चुनौती है कि आगामी बीएमसी चुनाव मतपत्र से कराएं।" उन्होंने आगे कहा कि अगर आप में हिम्मत है, तो पहले बीएमसी चुनाव कराएं और वह चुनाव केवल बैलेट पेपर से कराएं और फिर परिणाम देखें।

इसके साथ ही उद्धव ठाकरे ने धारावी पुनर्विकास परियोजना की स्थिति का विवरण भी मांगा, जिसे हाल ही में अडानी समूह को सौंपा गया है। पूर्व सीएम ने कहा कि धारावी के लोगों को उनके उद्योगों के साथ स्थानांतरित करने की जरूरत है और कहा कि उन्हें कम से कम 400-500 वर्ग फीट के घर दिए जाने चाहिए।


उन्होंने धारावी में कई झोपड़ियों को कथित तौर पर सुधार परियोजना में शामिल करने के लिए पात्रता के मुद्दों का सामना कर रहे लोगों के प्रति चिंता जताई। ठाकरे ने कहा कि शिवसेना-यूबीटी 16 दिसंबर को धारावी में लोगों की विभिन्न आशंकाओं पर जवाब मांगने के लिए एक विरोध मार्च निकालेगी।

महा विकास अघाड़ी (एमवीए) में सहयोगी और विधानसभा में विपक्ष के नेता विजय वडेत्तीवार भी नगर निकाय चुनाव मतपत्र से कराने की ठाकरे की मांग के समर्थन में सामने आए। कांग्रेस नेता ने कहा, "यहां तक कि जब ठाकरे बीजेपी के साथ गठबंधन में थे, तब भी उन्होंने इसी तरह की मांग की थी, हालांकि उस समय यह मांग कांग्रेस के लिए थी। लेकिन अब मतपत्र प्रयोग किया जाना चाहिए।"


उन्होंने संदिग्ध ईवीएम छेड़छाड़ के कुछ कथित उदाहरणों की ओर इशारा किया और कहा कि लोगों के मन में संदेह पैदा हो गया है। वडेत्तीवार ने कहा, "संयुक्त राज्य अमेरिका जैसे प्रमुख लोकतंत्रों ने भी ईवीएम को बंद कर दिया है। जनता के मन में भ्रम को दूर करें। यदि चुनाव वास्तव में ईमानदारी से हो रहे हैं तो एक बार मतपत्र से कराएं और लोगों के डर को दूर करें।"

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;