यूजीसी ने डिस्टेंस मोड के कई प्रोफेशनल कोर्स को किया बंद, देखिए पूरी लिस्ट 

यूजीसी ने डिस्टेंस एजुकेशन के जरिए चलाए जा रहे इंजीनियरिंग, मेडिसिन और फार्मेसी समेत कई प्रोफेशनल कोर्स को बैन करने का निर्णय लिया है। यूजीसी के अधिकारियों का कहना है कि इन कोर्स को बैन करने का निर्णय छात्रों के हित में लिया गया है।

फोटो: सोशल मीडिया 
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन यानी यूजीसी ने डिस्टेंस एजुकेशन के जरिए चलाए जा रहे कुछ कोर्स को रोक लगाने का फैसला किया है। जिन कोर्स को यूजीसी ने बंद करने का फैसला किया है उनमें इंजीनियरिंग, मेडिसिन और फार्मेसी समेत कई प्रोफेशनल कोर्स शामिल है।

इसके अलावा यूजीसी ने कृषि विज्ञान क्षेत्र के डिस्टेंस मोड कोर्स को प्रतिबंधित कर दिया है। उन्होंने कहा कृषि क्षेत्र की प्रकृति तकनीकी है और इसमें प्रयोगों और प्रयोगशाला संबंधित पाठ्यक्रम की आवश्यकता हैं। यूजीसी के नए नियमों के अनुसार, कृषि और संबंधित पाठ्यक्रमों को भी पेशेवर माना जाएगा और संस्थान ओपन और डिस्टेंस मोड में इस कोर्स का संचालन नहीं कर सकती है। नए नियम के तहत, कई संस्थानों को अपने इस कोर्स को बंद करना होगा या फिर इन्हें डिग्री प्रोग्राम को बदलना होगा।

यूजीसी ने छात्रों का ख्याल रखते हुए कहा कि जो छात्र इस सेशन में कृषि विज्ञान क्षेत्र में एडमिशन ले चुके हैं। उन्हें दिक्कतें आएंगी। ऐसे में इस बार इंडियन काउंस ऑफ एग्रीकल्चर रिसर्च इन छात्रों को मदद करें। साथ यूजीसी ने कहा कि 2019 से डिस्टेंस एजुकेशन के जरिये कृषि विज्ञान का कोर्स नहीं होगा।

इसके अलावा यूजीसी ने जिन कोर्स को डिस्टेंस लर्निंग की श्रेणी से बाहर किया है वो हैं इंजीनियरिंग, मेडिकल, डेंटल, नर्सिंग, आर्किटेक्चर, फार्मेसी, और फिजियोथेरेपी यानी इन कोर्स को डिस्टेंस लर्निंग या ओपन से नहीं करवाया जा सकता। आपको अगर इन कोर्स में एडमिशन लेना है तो आपको बाकायदा कॉलेज जाकर पढ़ना होगा।

यूजीसी के अधिकारियों का कहना है कि इन कोर्स को बैन करने निर्णय छात्रों के हित में लिया गया है। इंडियन काउंसिल ऑफ एग्रीकल्चर रिसर्च ने इस बारे में यूजीसी को जानकारी दी थी।

चलिए बात करते हैं कि इस तरह के कोर्स को डिस्टेंस मोड में कहा-कहा पढ़ाया जाता है। नासिक का यशवंत राव चह्वाण महाराष्ट्र ओपन यूनिवर्सिटी, अन्नामलाई यूनिवर्सिटी, इग्नू, कुवेंपु यूनिवर्सिटी और नालंदा ओपन यूनिवर्सिटी में इस तरह के कोर्स कराए जाते हैं।

इसके अलावा यूजीसी ने ओपन डिस्टेंस लर्निंग विश्वविद्यालयों के लिए टाइमलाइन भी निर्धारित कर दी है। नए नियमों के मुताबिक एकेडेमिक सेशन जनवरी में शुरू हो जाना चाहिए। जबकि दूसरा सेशन जुलाई में शुरू करने को कहा गया है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia