यूपी चुनाव के आखिरी दिन सियासी बहसों में छाया यूक्रेन संकट और ऑपरेशन गंगा, क्या गुल खिलाएगी काशी!

प्रधानमंत्री मोदी के निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी और यूक्रेन से भारतीयों को वापस लाने का अभियान ऑपरेशन गंगा सियासी बहसों और चर्चा का विषय रहा। इसे लेकर आरोप और प्रत्यारोप का दौर लोगों के बीच देखा गया।

Getty Images
Getty Images
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश विधानसभा के लिए सातवें और आखिरी चरण का मतदान संपन्न हो गया और इस दौरान मतदाताओं का रुख मिला-जुला नजर आया। लेकिन प्रधानमंत्री मोदी के निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी और यूक्रेन से भारतीयों को वापस लाने का अभियान ऑपरेशन गंगा सियासी बहसों और चर्चा का विषय रहा। इसे लेकर आरोप और प्रत्यारोप का दौर लोगों के बीच देखा गया।

यूपी में समाजवादी को खुलकर चुनौती दे रहे समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बीजेपी पर जमकर हमला बोलते हुए कहा कि सिर्फ चुनावों को ध्यान में रखते हुए ही केंद्र सरकार ने इस अभियान का नाम ऑपरेशन गंगा रखा था। उन्होंने आरोप लगाया कि चूंकि वाराणसी में चुनाव हो रहा था इसीलिए इस ऑपरेशन का नाम गंगा से जोड़ा गया।

अखिलेश ने कहा कि, “.यूक्रेन से समय पर लोगों को निकालने में केंद्र सरकार पूरी तरह नाकाम साबित हुई है, सिर्फ वाराणसी चुनाव के लिए ऑपरेशन गंगा नाम रख दिया। अगर यूक्रेन से सीधे लोगों को सरकार निकाल पाती तो मैं भी उनकी प्रशंसा करता।”

लेकिन अखिलेश के इस आरोप का जवाब यूपी के मुख्यमंत्री गी आदित्यनाथ ने दिया। उन्होंने कहा कि ऑपरेशन गंगा ऐतिसाहिक रूप से कामयाब रहा है। उन्होंने लखनऊ में यूक्रेन से लौटे छात्रों से मुलाकात के दौरान कहा, “बच्चों को सुरक्षित वापस लाना सरकार और देश की मुख्य प्राथमिकता थी,लेकिन कुछ लोग इस पर भी गंदी राजनीति करने से बाज नहीं आ रहे हैं।” उन्होंने आगे कहा कि ये लोग नहीं चाहते कि हमारे बच्चे सुरक्षित लौटें, और ऐसे लोगों से सावधान रहना चाहिए।

सोशल मीडिया पर भी तमाम लोग बीजेपी की इस बात के लिए आलोचना कर रहे हैं कि उसने आखिरी चरण में वोट हासिल करने के लिए यूक्रेन संकट का सहारा लिया। बहुत से लोगों का कहना है कि बीजेपी को लगता है कि गंगा ही बीजेपी की यूपी में डूबती नैया को पार लगा सकती है।

नेशनल हेरल्ड से बातचीत में वाराणसी के स्थानीय निवासियों ने कहा कि मोदी के तीन दिन के वाराणसी प्रवास का कुछ असर तो जरूर नजर आया है और ऑपरेशन गंगा से भी लोग प्रभावित हुए हैं। एक निवासी ने कहा, “तिन दिन पहले तक लोग बीजेपी के खिलाफ बातें कर रहे थे, लेकिन मोदी के दौरे के बाद कुछ बदलाव जरूर दिखा है।” लेकिन काफी लोग ऐसे भी हैं कि बीजेपी भले ही वाराणसी शहर की तीनों सीटें जीत जाए लेकिन ग्रामीण इलाकों में उसे समाजवादी पार्टी गठबंधन से कड़ी चुनौती मिल रही है।

वैसे बीजेपी ने दावा किया है कि योगी आदित्यनाथ के साथ मुलाकात में छात्रों ने उन्हें बताया कि दूसरे देशों ने भी भारत सरकार और ऑपरेशन गंगा की तारीफ की है। एक अनुमान के मुताबिक उत्तर प्रदेश के करीब 1200 छात्र यूक्रेन के विभिन्न विश्वविद्यालयों में पढ़ रहे थे। और बीजेपी नेता यूक्रेन संकट का फायदा उठाने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ रहे हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia