यूपी की जेल में विचाराधीन कैदी ने की खुदकुशी, पुलिस पर लगाया जानबूझकर फंसाने का आरोप

पुलिस की ओर से बताया गया है कि रूपेश को जेल में सर्कल नंबर एक के बैरक नंबर 23 में रखा गया था और मंगलवार को वह बैरक के कमरे में गले में गमछा बंधा हुआ पाया गया था। पुलिस ने कहा है कि रूपेश को जेल के एक डॉक्टर द्वारा जांच करने पर मृत पाया गया था।

प्रतीकात्मक फोटो
प्रतीकात्मक फोटो
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश के गोसाईंगंज की जिला जेल के अंदर एक विचाराधीन कैदी का शव लटका हुआ पाया गया है। वहां छोड़े एक सुसाइड नोट में मृतक कैदी ने दावा किया कि वह निर्दोष है और यूपी पुलिस ने उसे जान-बूझकर फंसाया है। वहीं, पुलिस का दावा है कि उसने आत्महत्या की है और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। उसकी रिपोर्ट का इंतजार है।

मिली जानकारी के अनुसार मृतक की पहचान सीतापुर जिले के बिसवां मोहल्ले के 25 वर्षीय रूपेश कुमार के रूप में हुई है। उसे गोसाईंगंज पुलिस ने इसी साल 12 अगस्त को डकैती के एक मामले में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था।


पुलिस की ओर से दी गई जानकारी में कहा गया है कि रूपेश को जेल में सर्कल नंबर एक के बैरक नंबर 23 में रखा गया था और मंगलवार को वह बैरक के कमरे में गले में गमछा बंधा हुआ पाया गया था। ज्ञापन में कहा गया है कि रूपेश को जेल के एक डॉक्टर द्वारा जांच करने पर मृत पाया गया था।

गोसाईंगंज जिला जेल के अधिकारियों ने कहा कि मृतक कैदी के पास से एक सुसाइड नोट मिला है, जिसके अनुसार वह निर्दोष है और पुलिस ने उसे मामले में झूठे तरीके से फंसाया है।
सुसाइड नोट में मामले की न्यायिक जांच की मांग भी की गई है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;