यूपी चुनाव का घमासान: राजभर के खिलाफ निर्दलीय लड़ेंगी सपा की पूर्व नेता, बीजेपी के पूर्व सहयोगी की बढ़ी टेंशन!

बीजेपी के पूर्व सहयोगी राजभर, (जिन्होंने बाद में चुनाव से ठीक पहले समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव के साथ हाथ मिलाया है) ने दावा किया कि फातिमा सिर्फ एक कठपुतली है, जो बीजेपी के हाथों में खेल रही है

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

समाजवादी पार्टी के पूर्व विधायक सैयदा शादाब फातिमा ने जहूराबाद विधानसभा से निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ने का फैसला किया है। राजभर ने आरोप लगाया है कि बीजेपी ने फातिमा को सीट से उनकी हार सुनिश्चित करने के लिए चुनाव लड़ने के लिए प्रेरित किया है।

शादाब फातिमा ने कहा, "2012 में जीतने के बावजूद मुझे 2017 में जहूराबाद से टिकट नहीं दिया गया था। मेरे दावे को इस बार फिर से नजरअंदाज कर दिया गया। अब क्षेत्र के लोग और मेरे समर्थक कह रहे हैं कि राजभर ने इस सीट को जीतने के बाद पांच साल में कुछ नहीं किया है। लोगों की मांग पर मैं इस सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ रही हूं।"

बीजेपी के पूर्व सहयोगी राजभर, (जिन्होंने बाद में चुनाव से ठीक पहले समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव के साथ हाथ मिलाया है) ने दावा किया कि फातिमा सिर्फ एक कठपुतली है, जो बीजेपी के हाथों में खेल रही है, जो उनकी हार सुनिश्चित करने के लिए सभी प्रयास कर रही है।

उन्होंने कहा, "अगर वह मेरे खिलाफ चुनाव लड़ने का फैसला करती है तो वह अपनी जमानत खो देगी।" 2017 में फातिमा को मैदान में उतारने के बजाय, एसपी ने महेंद्र को जहूराबाद से टिकट दे दिया, जब राजभर ने बीजेपी के गठबंधन सहयोगी के रूप में चुनाव लड़ा और 86,000 से अधिक वोट हासिल किए। फातिमा ने शिवपाल यादव के साथ मिलाया, जब उन्होंने प्रगतिशील समाजवादी पार्टी बनाई।

समाजवादी पार्टी गठबंधन में सीट बंटवारे पर सवाल उठाते हुए फातिमा ने कहा, "यह आश्चर्यजनक है कि शिवपाल यादव जैसे नेता को केवल एक सीट दी गई, जबकि एसबीएसपी और अपना दल (के) को गठबंधन में 18 और 7 सीटें दी गईं। अन्य पीएसपी नेताओं की तरह, मुझे भी आश्वासन दिया गया था, लेकिन पूरी तरह से नजरअंदाज कर दिया गया।"

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia