यूपी: कृषि कानून का फायदा गिनाने पहुंचे मोदी के मंत्री संजीव बालियान का भारी विरोध, गांव में घुसने से रोका गया

उत्तर प्रदेश के शामली में केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान, विधायक उमेश मलिक, राज्य मंत्री भूपेंद्र सिंह समेत कई बीजेपी नेता अपने काफिले के साथ खाप चौधरियों से मिलने के लिए पहुंचे थे। मंत्री का काफिला पहले लिसाढ़ गांव पहुंचा था।

फोटो: सोशल मीडिया 
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

नए कृषि कानूनों के फायदे गिनाने पहुंचे केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान को रविवार को यूपी के शामली में भारी विरोध का सामना करना पड़ा। शामली के भैंसवाल में संजीव बालियान और बीजेपी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई। स्थानीय लोगों ने मंत्री के काफिले को गांव में घुसने से रोक दिया। विरोध पर संजीव बालियान ने कहा है कि 10 लोगों के विरोध करने से और मुर्दाबाद बोलने से मैं मुर्दाबाद नहीं हो जाऊंगा। विरोध की वजह से मंत्री का काफिला गांव से लौट गया।

रविवार को शामली में केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान, विधायक उमेश मलिक, राज्य मंत्री भूपेंद्र सिंह समेत कई बीजेपी नेता अपने काफिले के साथ खाप चौधरियों से मिलने के लिए पहुंचे थे। मंत्री का काफिला पहले लिसाढ़ गांव पहुंचा था, जहां पर उन्होंने मलिक गठवाला खाप के चौधरी बाबा राजेंद्र सिंह से उनके आवास पर मुलाकात की। इस दौरान भी केंद्रीय मंत्री को किसानों की खरी-खोटी सुननी पड़ी।

केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान का काफिला इसके बाद भैंसवाल गांव पहुंचा, जहां काफिले के आगे ट्रैक्टर खड़ी कर स्थानीय लोगों ने उन्हें गांव में घुसने से ही रोक दिया। इस दौरान ग्रामीणों ने जयंत चौधरी जिंदाबाद, किसान एकता जिंदाबाद के नारे लगाए और संजीव बालियान का विरोध किया। यहां संजीव बालियान की अगुवाई में बीजेपी नेताओं को खाप चौधरी बाबा संजय कालखड़े, गठवाला खाप के बाबा हरिकिशन, बुडीना खाप चौधरी बाबा सचिन और निर्वाल खाप के चौधरी बाबा धर्मवीर सिंह निर्वाल से मिलने पहुंचे थे। खाप चौधरियों ने केंद्रीय मंत्री और उनके काफिले से मिलने से ही इनकार कर दिया।

बुडीना खाप चौधरी बाबा सचिन ने कहा कि कोई भी सत्तापक्ष का मंत्री हमसे मिलने की कोशिश न करे, अगर कोई बात करनी भी है, वे संयुक्त किसान मोर्चा से बात करे, हम किसानों के साथ ही रहेंगे। वहीं, किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सवित मलिक ने एक वीडियो संदेश में कहा कि अब बीजेपी का गांव-गांव विरोध शुरू हो गया है। उन्होंने कहा कि बीजेपी को अब समझ लेना चाहिए कि वह कृषि कानूनों में केंद्र सरकार के नेतृत्व में बैठक कर जल्द फैसले लेने का काम करे, वरना गांव में इसी तरह बीजेपी जारी रहेगा।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


लोकप्रिय
next