CAA: योगी की पुलिस पर बुजुर्ग का गंभीर आरोप, बर्बरता-लूट के बाद पुलिस बोली, मुसलमान पाक जाएंगे या कब्रिस्तान

मुजफ्फरनगर के लकड़ी व्यापारी ने कहा कि लगभग 30 पुलिसकर्मी सादे कपड़ों में मेरे मकान में घुसे और जमकर कोहराम मचाया। पुलिस वालों का विरोध किया तो उन्होंने हमला किया और लाठी-डंडों से पीटा। पुलिस वालों ने घर में जमकर तोड़-फोड़ की।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के विरोध में देश भर में विरोध प्रदर्शन जारी है। उत्तर प्रदेश समेत देश के कई हिस्सों में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। उत्तर प्रदेश के लखनऊ समेत कई जगहों पर हिंसक प्रदर्शन के बाद योगी सरकार प्रदर्शनकारियों की पहचान कर उनसे नुकसान की भरपाई कर रही है। मुजफ्फरनगर में पुलिस पर बर्बरता और लूट का आरोप लगा है। पुलिस पर 72 साल के लकड़ी व्यापारी हाजी हामिद के घर में घुस कर बर्बरता, लूट और तोड़फोड़ का आरोप लगा है। अंग्रेजी न्यूज़ वेबसाइट टेलीग्राफ में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, लकड़ी व्यापारी हाजी हामिद ने बताया कि पुलिस उनके घर में घुसी और जमकर तांडव मचाया।

लकड़ी व्यापारी ने कहा, “शुक्रवार को करीब 11 बजे लगभग 30 पुलिसकर्मी सादे कपड़ों में मेरे मकान में घुसे और जमकर कोहराम मचाया। पुलिस वालों का विरोध किया तो उन्होंने हमला किया और लाठी-डंडों से पीटा। पुलिस वालों ने घर में जमकर तोड़-फोड़ की। उन्होंने वाशबेसिन, बाथरूम की फिटिंग, बिस्तर, फर्नीचर, फ्रिज, वॉशिंग मशीन और बर्तन तोड़ डाले।”

रिपोर्ट के मुताबिक, व्यापारी हाजी हामिद ने बताया कि पुलिस कर्मियों ने उनके घर में करीब 30 से 40 मिनट तक जमकर कोहराम मचाया। घर में सबकुछ बर्बाद करने के बाद पुलिस कर्मियों ने बंदूक की नोक पर सोने-चांदी के गहने और अलमीरा में रखी 5 लाख रुपये की नकदी लूट ली। व्यापारी ने बताया कि मैंने हाल ही में अपनी दो पोतियों की शादियों के लिए आभूषण खरीदे थे। व्यापारी ने कहा कि उन्होंने पुलिस कर्मियों से रहम की भीख मांगी लेकिन उन्होंने एक न सुनी। उलटे पुलिस कर्मियों ने कहा कि मुसलमानों के लिए दो ही जगह है, कब्रिस्तान या फिर पाकिस्तान।

इससे पहले नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान लखनऊ में भी योगी सरकार की पुलिस पर गंभीर आरोप लगे थे। प्रदर्शन के दौरान पुलिस पर फायरिंग और बर्बरता के आरोप लगे थे। हालंकि पुलिस ने अपने ऊपर आरोपों से इनकार कर दिया था।

लोकप्रिय
next