यूपी पुलिस ने कांग्रेस के अल्पसंख्यक विभाग के अध्यक्ष को संदिग्ध तरीके से उठाया, थाने पहुंचे पार्टी नेता

उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अल्पसंख्यक विभाग के चेयरमैन शाहनवाज आलम को राजधानी लखनऊ में उनके घर से यूपी पुलिस ने संदिग्ध तरीके से उठा लिया है। पूरी घटना सीसीटीवी में कैद हुई है। पुलिस ने अब तक गिरफ़्तारी का कोई कारण नहीं बताया है।

 फोटोः सीसीटीवी ग्रैब
फोटोः सीसीटीवी ग्रैब
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में देर शाम पुलिस ने प्रदेश कांग्रेस के अल्पसंख्यक विभाग के अध्यक्ष शाहनवाज आलम को उनके घर से संदिग्ध तरीके से उठा लिया है। पूरी घटना सीसीटीवी में कैद हुई है। पुलिस ने अब तक गिरफ्तारी का कोई कारण नहीं बताया है। घटना की सूचना मिलते ही प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू और नेता कांग्रेस विधायक दल आराधना मिश्रा मोना हजरतगंज कोतवाली पहुंच गई हैं।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने घटना को लेकर प्रदेश की योगी सरकार पर करारा हमला किया है। उन्होंने कहा, “उत्तर प्रदेश कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के चेयरमैन शाहनवाज आलम को कानून ताक पर रखते हुए संदिग्ध तरीके से पुलिस ने उठाया है। सीसीटीवी फुटेज पुलिस के इस कृत्य को साफ करता है। पुलिस ने अब तक गिरफ़्तारी का कोई कारण नहीं बताया है। सरकार बौखलाई हुई है, मुख्यमंत्री कायरों जैसा बर्ताव कर रहे हैं।”

इस बीच घटना को लेकर यूपी कांग्रेस ने प्रदेश की योगी सरकार पर हमला किया है। यूपी कांग्रेस ने शहनवाज आलम को उठाए जाने की घटना का सीसीटीवी फुटेज शेयर करते हुए कहा कि यूपी की योगी सरकार कांग्रेस द्वारा मुख्य विपक्षी पार्टी के रूप में जनता के मुद्दे उठाए जाने से बुरी तरह परेशान है। कुछ दिनों पहले हमारे अध्यक्ष जी पर फर्जी मुकदमे लगाए गए थे और आज यूपी कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के अध्यक्ष शाहनवाज आलम जी को यूपी पुलिस संदिग्ध तरीके से उठाकर ले गई।”

यूपी कांग्रेस के एक पदाधिकारी ने बताया है कि अभी कुछ देर पहले शाहनवाज आलम को पुलिस ने उठा लिया है। कांग्रेस नेता ने बताया कि उनकी गाड़ी हजरतगंज थाने में खड़ी है, लेकिन कांग्रेस नेताओं के बारे में कोई जानकारी नहीं दी जा रही है। पुलिस ये भी नहीं बता रही है कि कांग्रेस नेता को अगर गिरफ्तार किया गया है, तो क्यों किया गया है। कांग्रेस नेता पुलिस के आला अफसरों से संपर्क करने की कोशिश कर रहे हैं।

गौरतलब है कि आज दिन में कांग्रेस ने देश में पेट्रोल-डीजल के लगातार बढ़ रहे दामों के खिलाफ देशव्यापी विरोध-प्रदर्शन किया था। इसी के तहत पूरे देश के साथ राजधानी लखनऊ समेत पूरे उत्तर प्रदेश में भी कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं ने सड़क पर उतरकर प्रदर्शन किया और बीजेपी सरकार से तेल के बढ़े हुए दाम तत्काल वापस लेने की मांग की। इसको लेकर कई राज्यों में कांग्रेस नेताओं पर एफआईआर भी दर्ज किया गया है। लेकिन उत्तर प्रदेश इकलौता राज्य है, जहां इस तरह संदिग्ध तरीके से कांग्रेस नेता को उठाया गया है।

Published: 29 Jun 2020, 11:04 PM
लोकप्रिय