यूपी: कैराना में 73 मतदान केन्द्रों पर कल होगा पुनर्मतदान, अखिलेश ने की मतपत्रों से चुनाव कराने की वकालत

यूपी में कैराना लोकसभा के उपचुनाव के दौरान ईवीएम और वीपीपैट मशीन में गड़बड़ी के कारण अब कल 73 मतदान केन्द्रों पर पुनर्मतदान होगा। उपचुनाव में कल होने वाले पुनर्मतदान में सहारनपुर जिले में 68 और शामली जिले में 5 बूथ पर पुनर्मतदान होगा।

फोटो: सोशल मीडिया 
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

27 मई को देश के अलग-अलग राज्यों की 4 लोकसभा और 10 विधानसभा की सीटों पर हुए उपचुनाव के दौरान बड़ी संख्या में वोटिंग मशीनों और वीवीपीएटी मशीनों के खराब होने की खबरें सामने आईं। यूपी के कैराना लोकसभा सीट पर भी ऐसा ही शिकायतें मिलीं। अब निर्वाचन आयोग ने कैराना लोकसभा उपचुनाव में 73 मतदान केन्द्रों पर कल दोबारा मतदान करवाने का फैसला लिया है। कैराना लोकसभा क्षेत्र उपचुनाव में कल होने वाले पुनर्मतदान में सहारनपुर जिले में 68 और शामली जिले में 5 बूथ पर पुनर्मतदान होगा।

28 मई को उपचुनाव के दौरान जिला निर्वाचन अधिकारी ने काफी प्रयास के बाद देर शाम तक मतदान कराया था। इसके बाद भी कई बूथ पर ईवीएम में खराबी आने के कारण काफी लोग मतदान से वंचित रह गए थे। इसी कारण निर्वाचन आयोग ने कल 73 बूथ पर पुनर्मतदान कराने की अनुमति दी है। इन सभी बूथों पर कल सुबह सात बजे से मतदान होगा।

वहीं ईवीएम में गड़बड़ी को लेकर उठे सवाल पर मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने बयान दिया है। उन्होंने कहा, “सोमवार को उपचुनाव के दौरान ईवीएम में कोई समस्या नहीं थी। वीवीपीएटी में जरूर समस्याएं सामने आईं। ये वीवीपीएटी इन निर्वाचन क्षेत्रों में और पोलिंग पार्टी द्वारा पहली बार इस्तेमाल की गई थीं।”

ईवीएम और वीवीपीएटी में खराबी की शिकायत पर समाजवार्दी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बैलेट पेपर से आगामी चुनाव कराने की मांग की है। उन्होंने कहा कि बैलेट पेपर से चुनाव लोकतंत्र को और ज्यादा मजबूती प्रदान करेगा। उन्होंने कहा कि लोकसभा और विधानसभा उपचुनावों में ईवीएम के कारण जहां-जहां मतदान प्रभावित हुआ, वहां दोबारा मतदान होना चाहिए।

28 मई को ईवीएम और वीवीपीएटी में खराबी की शिकायतों के बाद विपक्ष ने इसे बीजेपी की साजिश बताया था। कैराना से आरएलडी उम्मीदवार तबस्सुम हसन ने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर इसकी शिकायत की थी। उन्होंने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा था कि हर जगह ईवीएम और वीवीपीएटी मशीनों से जानबूझकर छेड़छाड़ की गई। उन्होंने कहा था कि मुस्लिम और दलित बहुल इलाके में खराब ईवीएम को नहीं बदला गया।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia