यूपीः शामली में कोरोनो का केस मिला तो योगी ने प्रदेश को किया लॉकडाउन, कई जिलों में संदिग्ध मामले से हड़कंप

उत्तर प्रदेश के शामली में एक शख्स के कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद आमलोगों से लेकर प्रशासन तक में हड़कंप मच गया है। इस मामले के सामने आने के बाद प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने शामली के साथ पूरे उत्तर प्रदेश में लॉकडाउन का आदेश जारी कर दिया है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

आस मोहम्मद कैफ

उत्तर प्रदेश के शामली में कोरोनो वायरस का पहला पॉजिटिव मामला मिलने के बाद हड़कंप मच गया है। पॉजिटिव पाया गया युवक एक सप्ताह (15 मार्च) पहले दुबई से यहां पहुंचा था। बताया जा रहा है कि उसके गले मे इंफेक्शन था और दुबई से दिल्ली पहुंचने पर उसका सैम्पल भी लिया गया था, मगर वो वहां से अपने घर कैराना भाग आया था। लौटने के बाद वह सात दिन से खुला घूम रहा था। इस दौरान वह कैराना से शामली भी आया और अपने दोस्तों से भी मिला। अब उससे मिलने वाले सौ से ज्यादा लोग दहशत में आ गए हैं। फिलहाल उसके पूरे परिवार को जांच के लिए ले जाया गया है।

इसकी जानकारी मिलने के तुरंत बाद शामली जनपद को पूरी तरह से लॉकडाउन कर दिया गया है। जनपद की हरियाणा से लगने वाली सीमा को भी सील कर दिया गया है। वहीं इस घटना के सामने आने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने पूरे प्रदेश को ही लॉकडाउन करने का आदेश जारी कर दिया है। साथ ही उन्होंने कहा है कि सरकार लोगो के अनुशासन में न रहने पर कर्फ़्यू भी लगा सकती है। बता दें कि शामली जनपद को 23 मार्च को लॉकडाउन किए गए उत्तर प्रदेश के 15 जिलों में शामिल नहीं किया गया था।

यूपीः शामली में कोरोनो का केस मिला तो योगी ने प्रदेश को किया लॉकडाउन, कई जिलों में संदिग्ध मामले से हड़कंप

इस मामले की जानकारी मिलने पर सहारनपुर के आयुक्त संजय कुमार और डीआईजी उपेंद्र अग्रवाल तुरंत शामली पहुंच गए। युवक और उसके परिवार को फौरन आइसोलेशन में डाल दिया गया है। इसके अलावा यहां दुबई से हाल में आई एक अन्य 27 वर्षीया महिला को भी आइसोलेट किया गया है। उसे भी गहन जांच कक्ष में रखा गया है। इस बीच पड़ोसी जिले मुजफ्फरनगर में भी दो मरीजों के कारोना वायरस पीड़ित होने का संदेह जताया जा रहा है। हालांकि इसकी अभी पुष्टि नहीं हुई है।

इस बीच बिजनोर जनपद में कोरोना के डर से एक अन्य कर्मचारी के आत्महत्या करने की खबर है। बताया जा रहा है उसे बुखार हो गया था और इसी डर से उसने आत्महत्या कर ली। वहीं बिजनोर में दो संदिग्ध कोरोना पीड़ितों के मिलने की बात कही जा रही है। शहर के जैन धर्मशाला के पास डूडा विभाग में कार्यरत एक सरकारी कर्मचारी को कोरोनो वायरस होने की आशंका में जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया है। वो जनपद में जिला समन्वयक के पद पर काम कर रहे थे। इसके बाद डूडा कायार्लय को बंद कर दिया गया है।

इन मामलों के सामने आने के बाद बिजनोर जिले की तमाम सीमाएं सील कर दी गई हैं। बिजनोर के सीएमएस ज्ञान चंद ने बताया कि जनपद में अब तक 3 लोगो को आइसोलेट किया गया है, जिनकी जांच की जा रही है। उन्होंने फिलहाल किसी भी मरीज में कोरोनो की पुष्टि नहीं की है। जनपद में दो ऐसे युवकों की भी जांच की जा रही है जो हाल ही में सऊदी अरब से लौटे थे।

वहीं, सहारनपुर जनपद में प्रशासन ने हाल में विदेश से आए लोगो को चिन्हित कर एक महीने तक उनके घर से बाहर निकलने पर रोक लगा दी है। यहां एक संदिग्ध युवक हाल ही में चीन से लौटा था जिसे आइसोलेट किया गया है। वो सरसावा के मोहल्ला चौधरियान का रहना वाला है। इस बीच लॉकडाउन के दौरान सहारनपुर में बेवजह सड़क पर घूमने वाले कुछ लोगों की पुलिस ने हल्की-फुल्की पिटाई भी की है।

बता दें कि उत्तर प्रदेश में लागू लॉकडाउन के दौरान अब तक 12 हजार वाहनों का चालान किया गया है और 700 से ज्यादा वाहनों को सीज कर दिया गया है। कुछ जगहों पर पुलिस ने लोगों को घरों में रोकने के लिए सख्ती बरती है। मेरठ में पुलिस ने सड़क पर निकलने वालों का ‘मैं समाज का दुश्मन हूं’ लिखे पोस्टर के साथ फोटो लेकर सोशल मीडिया पर डाला है। वहीं मुजफ्फरनगर को पहले लॉकडाउन नहीं किया गया था, मगर अब वहां भी पूरी तरह लोगों को घरों के अंदर रहने की ताकीद करते हुए पुलिस की गाड़ियां हूटर बजाते हुए घूम रही हैं।

लोकप्रिय
next