कर्नाटक बीजेपी में येदियुरप्पा के खिलाफ बगावत तेज, बागी विधायक ने फोन टैपिंग, पीछा करने का लगाया आरोप

बीजेपी विधायक अरविंद बेलाड ने कहा कि उनका विश्वास है कि उनका फोन टैप किया जा रहा है और उनका लगातार पीछा किया जा रहा है। बेलाड ने कहा कि उन्होंने इस संबंध में विधानसभा अध्यक्ष और राज्य के गृहमंत्री बसवराज बोम्मई को पत्र लिखकर हस्तक्षेप की मांग की है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कर्नाटक की बीजेपी सरकार के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के खिलाफ उनकी ही पार्टी में उठा विरोध राष्ट्रीय नेताओं के हस्तक्षेप के बाद भी शांत नहीं हो रहा है। येदियुरप्पा के मुख्य विरोधियों में से एक हुबली-धारवाड़ पश्चिम के बीजेपी विधायक अरविंद बेलाड ने अपना फोन टैप किये जाने और लगातार पीछा किये जाने का आरोप लगाकर नया विवाद खड़ा कर दिया है।

बीजेपी विधायक अरविंद बेलाड ने गुरुवार को कहा कि उनका 'विश्वास' है कि उनका फोन टैप किया जा रहा है और उनका लगातार पीछा किया जा रहा है। बेलाड ने कहा कि वह इस संबंध में विधानसभा अध्यक्ष विश्वेश्वर हेगड़े कागेरी और राज्य के गृहमंत्री बसवराज बोम्मई को पहले ही एक विस्तृत पत्र सौंप चुके हैं। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, "मैंने इस संबंध में उनसे (बोम्मई और कागेरी) हस्तक्षेप की मांग की है।"


अरविंद बेलाड ने कहा कि उनके पिता चंद्रकांत बेलाड बीजेपी से पांच बार विधायक रहे हैं और वह खुद 2013 से विधायक हैं। दोनों ने सार्वजनिक जीवन में एक बेदाग रिकॉर्ड बनाए रखा है।
उन्होंने दावा किया, "यह सब तब शुरू हुआ जब मुझे कुछ समय पहले युवराज स्वामी का फोन आया। तब से मेरा दृढ़ विश्वास है कि मेरा फोन टैप किया जा रहा है और मेरा लगातार पीछा किया जा रहा है।"

एक सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि उन्हें कुछ समय पहले एक अनजान नंबर से कॉल आया, जिसने कहा कि स्वामी बोल रहे हैं। बेलाड ने कहा, "शुरुआत में मुझे लगा कि यह कोई धार्मिक नेता हैं, लेकिन उसके बाद उन्होंने अपना परिचय युवराज स्वामी के रूप में दिया, जो किसी अपराध के लिए जेल में बंद थे और उन्होंने मुझे अस्पताल से फोन करके कहा था कि वह मुश्किल में हैं। यह महसूस करते हुए कि यह मेरे लिए एक जाल बिछाया गया था, मैंने तुरंत डिस्कनेक्ट कर दिया।


उन्होंने कहा कि यह सारा घटनाक्रम उन्हें चुप कराने और उन्हें बदनाम करने के लिए किए जा रहे प्रयासों के बारे में बहुत कुछ बताता है। उन्होंने येदियुरप्पा का नाम लिए बिना कहा कि "मुझे नहीं पता कि यह साजिश कौन कर रहा है, लेकिन यह एक खतरनाक प्रवृत्ति है।"

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia