ये है योगी राज! बीमार मासूम को लेकर अस्पताल में भटकती रही दादी, बच्ची ने तोड़ा दम

बरेली के अस्पताल में बच्ची को लेकर उसकी दादी पुरुष विंग में पहुंची थीं। वहां पर ड्यूटी पर मौजूद डॉक्टर ने उन्हें महिला विंग में जाने के लिए कहा। जब वे महिला विंग में गईं तो डॉक्टर ने कहा कि यहां बेड की कमी है। उन्हें पुरुष विंग में भेज दिया गया।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार के राज में बदहाल स्वास्थ्य व्यवस्था की तस्वीर सामने आई है। बरेली के सरकारी अस्पताल में 4 दिन की मसूम बच्ची ने डॉक्टरों की लापरवाही की वजह से दम तोड़ दिया। नवजात बच्ची को लेकर उसकी दादी कुसमा देवी अस्पताल पहुंची थीं। बच्ची को सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। बच्ची को लेकर उसकी दादी अस्पताल के पुरुष विंग में पहुंचीं। वहां पर ड्यूटी पर मौजूद डॉक्टर ने उन्हें महिला विंग में जाने के लिए कहा। जब वे महिला विंग में गईं तो डॉक्टर ने कहा कि यहां बेड की कमी है। डॉक्टर ने दोबारा उन्हें पुरुष विंग में भेज दिया। वहां पर भी बच्ची को भर्ती नहीं लिया गया। बच्ची की दादी ने बताया कि वे इसी तरह 3 घंटे तक अस्पताल में भटकती रहीं और बच्ची ने दम तोड़ दिया।

अस्पताल में बच्ची को एक विंग से दूसरे विंग में भेजने के निर्देश बच्ची की मेडिकल पर्ची में दर्ज किए गए हैं। बताया जा रहा है कि बच्ची की मौत के बाद दोनों विंगों के डॉक्टरों के बीच बहस भी हुई। मामला बढ़ता देख सीएम योगी ने इसमें हस्तक्षेप किया है। सीएम ने बुधवार रात को ट्वीट किया, “ड्यूटी पर लापरवाही बरतने पर बरेली अस्पताल के पुरुष विंग के चीफ मेडिकल सुपरिटेंडेंट को निलंबित करने का आदेश दिया है और महिला विंग की सुपरिटेंडेंट के खिलाफ विभागीय कार्रवाई के आदेश दिए गए हैं। नए उत्तर प्रदेश में अधिकारियों की कोई असंवेदनशीलता सरकार बर्दाश्त नहीं की जाएगी करेगी।”

सीएम येगी ने दूसरे ट्वीट लिखा, “गंभीर रूप से बीमार बच्ची को पुरुष विंग लाने के बाद कार्रवाई की गई, जहां पर्याप्त संख्या में बाल रोग विशेषज्ञ उपलब्ध थे। लेकिन बच्ची का इलाज करने की बजाय उसे महिला विंग भेज दिया गया। अस्पताल के महिला विंग की सुपरिटेंडेंट ने बच्ची को पुरुष विंग में भेज दिया।”

Published: 20 Jun 2019, 10:27 AM
लोकप्रिय