उत्तर प्रदेश: अपनी मांगों को लेकर आंदोलनरत किसान आज करेंगे महापंचायत, कल संसद घेराव का ऐलान

किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए गौतमबुद्ध नगर प्रशासन ने 7 और 8 फरवरी को जिले में धारा 144 लागू किया है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

दिल्ली से सटे नोएडा के किसान अपनी मांगों को लेकर लगातार आंदोलनरत हैं। ग्रेटर नोएडा में जमीन अधिग्रहण से प्रभावित किसानों का ग्रेनो प्राधिकरण पर चल रहा अनिश्चितकालीन धरने का आज 9वां दिन है। किसानों ने प्राधिकरण पर आज महापंचायत महापंचायत बुलाई है। कल यानी 8 फरवरी को किसान दिल्ली में संसद घेराव का ऐलान किया है।

8 फरवरी को दिल्ली में संसद घेराव का ऐलान

किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए गौतमबुद्ध नगर प्रशासन ने 7 और 8 फरवरी को जिले में धारा 144 लागू किया है। ऐसे में 5 से ज्यादा लोग के एकसाथ जमा होने, धार्मिक और राजनीतिक समेत अन्य किसी भी प्रकार के जुलूसों पर रोक रहेगी। साथ ही ट्रैफिक पुलिस की ओर से एक एडवाइजरी भी जारी की गई है। किसानों के ट्रैक्टर मार्च को देखते हुए नोएडा और ग्रेटर नोएडा में कई मार्गों को डायवर्ट कर दिया गया है। ट्रैफिक एडवाइजरी में कहा गया है कि यात्री 7 और 8 फरवरी को असुविधा से बचने के लिए वैकल्पिक मार्गों का इस्तेमाल करें।

किसानों की मांग क्या है?

दिसंबर 2023 से नोएडा और ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण द्वारा अधिग्रहीत अपनी जमीनों के बदले बढ़ा हुआ मुआवजा और भूखंड देने की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।


किसानों का आरोप क्या है?

किसानों के मुताबिक, प्राधिकरण उनकी परेशानियों को गंभीरता से नहीं ले रहा है। किसान सभा के जिला अध्यक्ष रुपेश वर्मा ने कहा कि गौतमबुद्ध नगर में तीनों प्राधिकरणों में किसानों की परेशानी के मुद्दे एक जैसे हैं। 10 फीसदी आवासीय भूखंड का मुद्दा तीनों प्राधिकरणों की बोर्ड बैठक से पास होने के बावजूद शासन की मंजूरी के लिए लंबित है। किसानों का कहना है कि मांगें नहीं माने जाने पर हम आंदोलन के लिए मजबूर हैं।सुखबीर खलीपा ने कहा कि कि नोएडा के सभी 81 गांवों के हजारों किसान 8 फरवरी को संसद घेराव के लिए ट्रैक्टर मार्च करेंगे।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;