उत्तर प्रदेशः फिर उठा ‘लव जिहाद’ का मुद्दा, कानपुर में एसआईटी ढूंढेगी साजिश, हिंदू संगठनों के दबाव में फैसला

हिंदू संगठनों के लगातार दबाव पर पुलिस अधीक्षक दीपर भुकर की अगुवाई में एसआईटी को कानपुर में कथित लव जिहाद की घटनाओं के पीछे किसी निश्चित पैटर्न या कार्यप्रणाली को देखने के लिए कहा गया है। एसआईटी ऐसे मामलों में इस्लामी संगठनों की कथित भूमिका की भी जांच करेगी।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

आईएएनएस

उत्तर प्रदेश में गैंगस्टर विकास दुबे के मामले में माफिया-पुलिस की साठगांठ का नायाब उदाहरण पेश करने वाली कानपुर पुलिस अब अंतरधार्मिक प्रेम विवाहों में लव जिहाद की साजिश का सुराग तलाशेगी। कानपुर पुलिस ने हिंदू संगठनों द्वारा शादी के बहाने जबरन धर्म परिवर्तन के आरोपों की जांच के लिए आठ सदस्यीय विशेष जांच टीम (एसआईटी) का गठन किया है। हिंदू संगठनों ने जिले में पिछले एक महीने में कथित 'लव जिहाद' के लगभग 11 मामले सामने आने का दावा करते हुए कानपुर के आईजी मोहित अग्रवाल से मुलाकात कर जांच की मांग की थी, जिसके बाद एसआईटी का गठन किया गया।

कानपुर में एक महिला शालिनी यादव के जुलाई में एक मुस्लिम युवक फैजल से शादी करने के बाद यह मुद्दा फिर से गरमाया है। कथित तौर पर लड़की के परिवार ने लव जिहाद का आरोप लगाया, हालांकि दंपति ने जबरन धर्म परिवर्तन के आरोपों से इनकार करते हुए दिल्ली की एक अदालत का दरवाजा खटखटाया है। शालिनी ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो भी अपलोड किया है, जिसमें दावा किया कि उसने शादी कर ली है और अपनी मर्जी से धर्म परिवर्तन किया है।

कानपुर पुलिस के एक अधिकारी ने कहा कि कानपुर (दक्षिण) के पुलिस अधीक्षक दीपर भुकर की अगुवाई में एसआईटी को कथित घटनाओं के पीछे किसी निश्चित पैटर्न या कार्य प्रणाली को देखने के लिए कहा गया है। विशेष जांच टीम (एसआईटी) ऐसे मामलों में इस्लामी संगठनों की कथित भूमिका की भी जांच करेगी।

दिलचस्प बात यह है कि कथित लव जिहाद के ज्यादातर मामले जूही इलाके से सामने आए हैं। एक अधिकारी ने कहा कि अगर किसी भी इस्लामिक संगठन की कानपुर में 'लव जिहाद' रैकेट की फंडिंग में भूमिका है, तो एसआईटी जांच करेगी। अधिकारी ने दावा किया, "इस बात की काफी हद तक संभावना है कि कुछ इस्लामिक संगठन इस तरह के राष्ट्र विरोधी कृत्यों में शामिल मुट्ठी भर संगठनों को वित्तीय सहायता प्रदान कर रहे हों।" पुलिस यह पता लगाने के लिए साजिश के पहलू पर गौर कर रही है कि क्या इसमें शामिल युवकों को विदेश से पैसे भेजे जा रहे हैं।

एसआईटी प्रमुख एसपी दीपक भुकर ने कहा कि निगरानी के लिए विशेष स्वाट टीम की मदद मांगी गई है। उन्होंने कहा कि एसआईटी ने स्थानीय पुलिस थानों से संपर्क किया है और पिछले दो वर्षों में दर्ज सभी कथित 'लव जिहाद' मामलों का विवरण मांगा है। भुकर ने कहा कि जांच टीम लिंक साबित करने के लिए एक दर्जन फोन नंबरों से संबंधित रिकॉर्ड निकाल रही है। उन्होंने कहा कि वे ऐसे जोड़ों, उनके बैंक खातों और उनके परिवार के सदस्यों के बयान दर्ज कर रहे हैं। सहयोगियों के फोन नंबर भी निकाले गए हैं।

हालांकि, भुकर ने शालिनी यादव से जुड़े मामले में कहा कि दंपति ने दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था और बाद में आरोपों से इनकार करते हुए राष्ट्रीय राजधानी में तीस हजारी अदालत में मजिस्ट्रेट के सामने पेश हुए। उन्होंने कहा कि महिला ने कहा था कि उसने अपनी पसंद के शख्स से शादी की है। उन्होंने कहा कि पुलिस के पास इस मामले (शालिनी के) में करने के लिए कुछ भी नहीं है, जल्द ही अदालत में एक क्लोजर रिपोर्ट भेजी जाएगी।

कानपुर पुलिस ने एक कथित 'लव जिहाद' मामले में दो लोगों- मोहसिन खान और आमिर को गिरफ्तार भी किया है। अधिकारी ने कहा कि मोहसिन खान ने कथित तौर पर खुद को समीर के रूप में पेश करते हुए एक लड़की से दोस्ती की और फिर उससे शादी कर ली थी।

Published: 15 Sep 2020, 4:08 PM
लोकप्रिय
next