देवस्थानम बोर्ड ने उत्तराखंड सरकार की बढ़ाई मुश्किलें! पुरोहितों का ऐलान- CM का करेंगे विरोध, PM के दौरे के दिन मार्च

तीर्थ पुरोहितों ने तीन नवंबर को केदारनाथ धाम मार्च करने का ऐलान किया है। फिलहाल राज्य सरकार अलर्ट हो गई है। क्योंकि पांच नवंबर को पीएम मोदी वहां जा रहा रहे हैं। अगर पुरोहित विरोध जताते हैं तो राज्य सरकार की किरकिरी होगी।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

उत्तराखंड में देवस्थानम बोर्ड का गठन पुष्कर सिंह धामी सरकार के गले की फांस बनता दिख रहा है। लगातार राज्य में इस बोर्ड का विरोध हो रहा है। हाल ही में पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत को केदारनाथ से जिस तरह से पुरोहितों ने विरोध के बाद उलटे पैर दौड़ाया वैसा ही कुछ सीएम धामी के साथ भी हो सकता है। क्योंकि तीर्थ पुरोहितों का कहना है कि वो सीएम धामी का भी विरोध करेंगे।

त्रिवेंद के बाद अब सीएम धामी का होगा विरोध!

आपको बता दें, त्रिवेंद्र रावत के विरोध के बाद से सीएम धामी ने पुरोहितों से मुलाकात का मन बनाया है और उनको पीएम के दौरे से पहले शांत कराने की कोशिश की जा रही है। लेकिन ऐसा होता नहीं दिख रहा है। पुरोहितों का साफ कहना है कि पीएम मोदी के समक्ष वो अपनी बात को रखेंगे। प्रदर्शनकारी पुरोहितों ने कहा कि वे केदारनाथ आने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपना संदेश देंगे। पुजारियों ने कड़े शब्दों में कहा कि आज केदारनाथ पहुंच रहे मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का भी विरोध किया जाएगा। जानकारी के मुताबिक सीएम धामी के साथ आज पुरोहितों से बातचीच करने के लिए कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत और स्वामी यतीश्वरानंद भी उनके साथ केदारनाथ जाएंगे।

पूर्व सीएम त्रिवेंद्र रावत को पूजा करने से रोका गया

आपको बता दें, दो दिन पहले ही बोर्ड का गठन करने वाले राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत का केदारनाथ में विरोध हुआ और उन्हें पूजा करने से रोक दिया गया। बताया जा रहा है कि यहां पर पुरोहितों ने उनके साथ धक्का-मुक्की भी की। वहीं पुरोहितों ने केदारनाथ पहुंचे बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक और कैबिनेट मंत्री धन सिंह रावत का भी विरोध किया। वहीं इसी बीच राज्य के कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल केदारनाथ धाम पहुंचे। उन्होंने बाबा केदार के दर्शन करने के बाद आंदोलनरत पुरोहित और पूजारियों से बातचीत की।

मोदी के दौरे के दिन होगा प्रदर्शन मार्च

आपको बता दें, तीर्थ पुरोहितों ने तीन नवंबर को केदारनाथ धाम मार्च करने का ऐलान किया है। फिलहाल राज्य सरकार अलर्ट हो गई है। क्योंकि पांच नवंबर को पीएम मोदी वहां जा रहा रहे हैं। अगर पुरोहित विरोध जताते हैं तो राज्य सरकार की किरकिरी होगी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia