दिल्ली में फिर छाया वैक्सीन संकट, युवाओं के आधे टीका केंद्र मंगलवार को रहे बंद, आधे बुधवार को हो जाएंगे ठप

दिल्ली में युवाओं के वैक्सीनेशन ने जो रफ्तार पकड़ी थी वह फिर से कम होना शुरू हो गई है। दिल्ली सरकार ने केंद्र से अपील है कि दिल्ली के युवाओं के लिए जल्द से जल्द वैक्सीन उपलब्ध करवाए।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

दिल्ली में एक बार फिर वैक्सीन संकट गहरा गया है। दिल्ली सरकार के अनुसार वैक्सीन की कमी के कारण 18 से 44 वर्ष के युवाओं के आधे टीका केंद्र मंगलवार को बंद हो गए। बाकी बचे आधे वैक्सीनेशन सेंटर बुधवार को बंद हो जाएंगे, क्योंकि दिल्ली में युवाओं के लिए सिर्फ 31 हजार वैक्सीन की डोज बची हैं। ऐसे में 1 दिन से भी कम समय का स्टॉक उपलब्ध है।

दिल्ली सरकार के अनुसार दिल्ली में युवाओं के वैक्सीनेशन ने जो रफ्तार पकड़ी थी वह फिर से कम होना शुरू हो गई है। दिल्ली सरकार ने केंद्र से अपील है कि दिल्ली के युवाओं के लिए जल्द से जल्द वैक्सीन उपलब्ध करवाए। उन्होंने कहा कि दिल्ली में अभी तक 61,50,931 लोगों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है। जिसमें से 46.87 लाख लोगों को पहली और 14.63 लाख लोगों को दोनों डोज लगायी जा चुकी हैं। दिल्ली में 14 जून को 60,734 लोगों को वैक्सीन लगाई गई है।


दिल्ली सरकार के मुताबिक वैक्सीनेशन कम होने की वजह वैक्सीन स्टॉक का कम होना है। 45 वर्ष से अधिक उम्र की श्रेणी में वैक्सीन की हिचक को खत्म करने का तरीका ज्यादा से ज्यादा युवाओं को वैक्सीन लगाना है। क्योंकि युवा अपने परिवार को भी वैक्सीन लगवाने के लिए साथ लेकर आएंगे। 45 वर्ष से अधिक उम्र की श्रेणी के लिए कोवैक्सीन की 60,200 और कोवीशील्ड की 2 लाख डोज मिली हैं। अब इस श्रेणी के लिए कोवैक्सीन का 22 दिन और कोवीशील्ड का 43 दिन का स्टॉक उपलब्ध है।

दिल्ली में 15 जून तक 61,50,931 लोगों को वैक्सीन की डोज लगाई जा चुकी हैं। जिसमें से 46.87 लाख लोगों को पहली और 14.63 लाख लोगों को वैक्सीन की दोनों डोज लगायी जा चुकी हैं। दिल्ली सरकार का कहना है कि दिल्ली में 45 वर्ष से अधिक उम्र की श्रेणी के 50 फीसदी से अधिक लोगों को वैक्सीनेट कर दिया गया है। अब 45 वर्ष से अधिक उम्र के बचे हुए लोगों से वैक्सीनेशन के लिए डोर टू डोर भी संपर्क कर रहे हैं। लेकिन बहुत सारे ऐसे लोग हैं जिनको वैक्सिन को लेकर कुछ हिचक है।


इसके अलावा कई ऐसे लोग हैं जिनको अभी कोरोना हुआ था, इस वजह से वैक्सीन लगवाने के योग्य नहीं है। दिल्ली के पास जहां 45 वर्ष से अधिक उम्र की श्रेणी के लिए काफी स्टॉक उपलब्ध है, वहीं 18 से 44 वर्ष के हालात बिल्कुल उल्टे हैं। दिल्ली में युवाओं के लिए सिर्फ 31 हजार डोज वैक्सीन की डोज उपलब्ध हैं। 18 से 44 वर्ष के लिए 1 दिन से भी कम का स्टॉक उपलब्ध है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia